Sunday, May 26, 2024
spot_img

सूर्य षष्ठी या छठ पूजा आज

71 / 100

सूर्य षष्ठी या छठ पूजा आज

नहाए-खाए के साथ यह व्रत शुरू होता है। आस्था का महापर्व छठ इस बार 28 अक्टूबर 2022 से नहाए-खाए से साथ शुरू होगया है, चार दिनों तक चलने वाले व्रत में महिलाएं संतान की लंबी उम्र के लिए 36 घंटों का निर्जला उपवास रखती हैं।

पहले दिन नहाए-खाए के साथ छठ पूजा का व्रत शुरू होता है। इस दिन सुबह उठकर स्नान के बाद घर की साफ- सफाई की जाती है। दूसरे दिन खरना है। इस दिन से व्रत शुरू होता है। रात के समय महिलाएं खीर खाकर 36 घंटे का निर्जला व्रत शुरू करती हैं। वहीं तीसरे दिन अस्त होते सूर्य को जल अर्पण किया जाता है। चौथे दिन उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ व्रत का समापन होता है।

छठ पूजा का मुहूर्त

30 अक्टूबर को शाम 5.37 बजे अस्तगामी सूर्य को अर्घ्य देने का मुहूर्त है। वहीं 31 अक्टूबर को सुबह 6.31 बजे उगते सूर्य को अर्घ्य देने का मुहूर्त है। छठ पूजा का व्रत कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी से शुरू हो जाता है।

JOIN

छठ पूजा की मान्यता

मान्यता है कि छठ पूजा की शुरूआत महाभारत काल से ही हुई थी। कर्ण रोजाना कमर तक पानी में घंटों खड़े रहकर उगते सूर्य को अर्घ्य देते थे और पूजा करते थे। सूर्य देव की कृपा से ही वह महान योद्धा बने और उन्हें कवच-कुंडल प्राप्त हुए थे। कर्ण को सूर्य पुत्र भी कहा जाता है। इसलिए इस व्रत में भी कमर तक पानी में खड़े होकर उगते सूर्य को जल अर्पण किया जाता है।

छठ पूजा की पौराणिक कथा
पौराणिक कथा के अनुसार राजा प्रियव्रत के कोई संतान नहीं थी और वह इस बात के बहुत दुखी रहते थे। महर्षि कश्यप ने उन्हें संतान प्राप्ति के लिए यज्ञ करने को कहा, राजा को पुत्र की प्राप्ति तो हुई, लेकिन महारानी मालिनी की कोख से मृत पुत्र पैदा हुआ।

धार्मिक कथा के अनुसार उसी समय माता छठी विराजमान हुई और उन्होंने कहा कि मैं सभी पुत्रों की रक्षा करती हूं। उन्होंने फिर मृत शिशु को हाथ लगाया और वह जीवित हो गया। राजा इससे बहुत खुश हो गए और उन्हें छठी माता की पूजा की। कहा जाता है कि तभी से इस व्रत कीलोकआस्था के महापर्व ‘छठ’ के दूसरे दिन आज मनाया जा रहा ‘खरना’, जानें इसका महत्व

लोकआस्था के महापर्व ‘छठ’ व्रत नहाय-खाय के साथ शुरू हो चुका है। चार दिवसीय इस पर्व की शुरुआत 28 अक्टूबर को नहाय-खाय के साथ हुई, जो 31 अक्टूबर तक चलेगा। इसी क्रम में आज शनिवार के दिन ‘खरना’ पूजन है। खरना को लेकर छठ व्रती महिलाएं सारी तैयारी कर चुकी है जिसमें शुद्धता का विशेष ख्याल रखा जाता है। रविवार को संध्या कालीन अर्घ्य और सोमवार उदयीमान भगवान भास्कर को अर्घ देने के साथ छठ व्रत का समापन हो जाएगा। आइए अब जानते हैं कि छठ में खरना का क्या होता है और इसका क्या महत्व है ?

खरना में क्या होता है ?

शनिवार को लोग छठ का दूसरा दिन खरना के रूप में मनाते हैं। इस अवसर पर छठी मैया को खुश करने के लिए हर व्रती प्रसाद में चार चीजें बनाती हैं। इस दिन व्रती सुबह से निर्जला व्रत रखकर शाम को मिट्टी के चूल्हे पर गुड़ और चावल की खीर बनाती है। खीर के साथ रोटी भी बनती है, रोटी और खीर के साथ मौसमी फल केला जरूर शामिल किया जाता है और मिठाई के साथ एक केले के पत्ते पर रखकर छठ माता को चढ़ाया जाता है। इसके बाद व्रती खुद भी इस प्रसाद को ग्रहण करके परिवार के बाकी लोगों को भी प्रसाद बांटती है।

यह प्रसाद चूल्हें पर आम की लकड़ियों को जलाकर ही बनाया जाता है। वहीं रविवार को व्रती संध्या अर्घ्य के लिए नहर पर जाती हैं। इस वर्ष डूबते सूर्य को दिया जाने वाला संध्या अर्घ्य 30 अक्टूबर दिन रविवार को है, जो कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को होता है। इसी दिन छठी मैया की विशेष पूजा भी होती है। इसी प्रकार ऊषा अर्घ्य और पारण- इस वर्ष छठ पर्व में ऊषा अर्घ्य और पारण 31 अक्टूबर दिन गुरुवार को है, जो कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को होता है।

खरना का है खास महत्व ?

छठ में खरना का विशेष महत्व है। खरना का अर्थ है शुद्धिकरण। शुद्धिकरण केवल तन नहीं, बल्कि मन का भी होता है। इसलिए खरना के दिन केवल रात में भोजन करके छठ के लिए तन-मन को व्रती शुद्ध करते हैं। साथ ही जो प्रसाद बनता है, उसे नए चूल्हे पर बनाया जाता है। खीर का प्रसाद महिलाएं अपने हाथों से ही पकाती हैं। इस दिन महिलाएं सिर्फ एक ही समय भोजन करती हैं। आम तौर पर इस दिन दिन सूर्यास्त के बाद व्रती प्रसाद ग्रहण करती हैं। खरना के बाद व्रती 36 घंटे का व्रत रखकर सप्तमी को सुबह अर्घ्य देती हैं।

कब-कब क्या है ?

छठ महापर्व की लोकप्रियता आज देश-विदेश तक देखने को मिलती है। छठ पूजा का व्रत कठिन व्रतों में एक होता है। इसमें पूरे चार दिनों तक व्रत के नियमों का पालन करना पड़ता है और व्रती पूरे 36 घंटे का निर्जला व्रत रखती हैं। छठ पूजा में नहाय खाय, खरना, अस्ताचलगामी अर्घ्य और उषा अर्घ्य का विशेष महत्व होता है। छठवर्त के पहला दिन- नहाय खाय 28 अक्टूबर शुक्रवार, दूसरा दिन- खरना 29 अक्टूबर शनिवार, तीसरा दिन- अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य 30 अक्टूबर रविवार तथा आखिरी व चौथे दिन- उदीयमान सूर्य को अर्घ्य 31 अक्टूबर सोमवार को संपन्न होगा।

पूरी प्रक्रिया

कार्तिक शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को स्नानादि से निवृत होने के बाद ही भोजन ग्रहण किया जाता है। इसे नहाय खाय भी कहा जाता है। इस दिन कद्दू भात का प्रसाद ग्रहण किया जाता है। कार्तिक शुक्ल पंचमी के दिन नदी या तालाब में पूजा कर भगवान सूर्य की उपासना की जाती है। संध्या में खरना में खीर और बिना नमक की पूरी इत्यादि को प्रसाद के रूप में ग्रहण कर खरना के बाद निर्जला व्रत शुरू हो जाता है। कार्तिक शुक्ल षष्ठी के दिन भी व्रती उपवास रहती है और शाम में किसी नदी या तालाब में जाकर डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। यह अर्घ्य एक बांस के सूप में फल, ठेकुआ प्रसाद, ईख, नारियल इत्यादि को रखकर किया जाता है। कार्तिक शुक्ल सप्तमी सबेरे को उदीयमान सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। इस दिन छठ व्रत संपन्न हो जाता है और व्रती व्रत का पारण करती हैं।

श्रद्धा और आस्था से जुड़ा है छठ पर्व

छठ का यह पर्व श्रद्धा और आस्था से जुड़ा होता है। मान्यता है कि जो व्यक्ति इस व्रत को पूरी निष्ठा और श्रद्धा से करता है उसकी मनोकामनाएं पूरी होती है। छठ व्रत, सुहाग, संतान, सुख, सौभाग्य और सुखमय जीवन की कामना के लिए किया जाता है। मान्यता है कि आप इस व्रत में जितनी श्रद्धा से नियमों और शुद्धता का पालन करेंगे छठी मईया आपसे उतनी ही प्रसन्न होंगी।शुरूआत हुई।

ALSO READ

प्रभु राम के आशीर्वाद से हो रहे त्रेता की अयोध्या के दर्शनः पीएम मोदी

: https://www.ayodhyalive.com/anganwadi-center…ment-of-children/

15 लाख 76 हजार दीपों का प्रज्जवलन कर बना वल्र्ड रिकार्ड

आयुर्वेद कैसे काम करता है – क्या है तीन दोष ?

दुनिया के इन देशों में भी भारत की तरह मनाई जाती है दीपावली

सम्पूर्ण भोजन के साथ अपने बच्चे का पूर्ण विकास सुनिश्चित करें : आचार्य डॉक्टर आरपी पांडे

वजन कम करने में कारगर हे ये आयुर्वेदिक औषधियाँ :आचार्य डॉक्टर आरपी पांडे

सोने से पहले पैरों की मालिश करेंगे तो होंगें ये लाभ: आचार्य डॉक्टर आरपी पांडे

कुलपति अवध विश्वविद्यालय के कथित आदेश के खिलाफ मुखर हुआ एडेड डिग्री कालेज स्ववित्तपोषित शिक्षक संघ

अयोध्या में श्री राम मंदिर तक जाने वाली सड़क चौड़ीकरण के लिए मकानों और दुकानों का ध्वस्तीकरण शुरू

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने राम जन्मभूमि परिसर के विकास की योजनाओं में किया बड़ा बदलाव

पत्रकार को धमकी देना पुलिस पुत्र को पड़ा महंगा

बीएचयू : शिक्षा के अंतरराष्ट्रीयकरण के लिए संस्थानों को आकांक्षी होने के साथ साथ स्वयं को करना होगा तैयार

राष्ट्रीय शिक्षा नीति का उद्देश्य शिक्षा को 21वीं सदी के आधुनिक विचारों से जोड़ना : PM मोदी

प्रवेश सम्बधित समस्त जानकारी विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है।

घर की छत पर सोलर पैनल लगाने के लिए मिल रही सब्सिडी, बिजली बिल का झंझट खत्म

बीएचयू : कालाजार को खत्म करने के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में महत्वपूर्ण खोज

नेपाल के लोगों का मातृत्व डीएनए भारत और तिब्बत के साथ सम्बंधितः सीसीएमबी व बीएचयू का संयुक्त शोध

JOIN

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

For You
- FOLLOW OUR GOOGLE NEWS FEDS -spot_img
डा राम मनोहर लोहिया अवध विश्व विश्वविद्यालय अयोध्या , परीक्षा समय सारणी
spot_img

क्या राहुल गांधी की संसद सदस्यता रद्द होने से कांग्रेस को फायदा हो सकता है?

View Results

Loading ... Loading ...
Latest news
प्रभु श्रीरामलला सरकार के शुभ श्रृंगार के अलौकिक दर्शन का लाभ उठाएं राम कथा सुखदाई साधों, राम कथा सुखदाई……. दीपोत्सव 2022 श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने फोटो के साथ बताई राम मंदिर निर्माण की स्थिति