Monday, May 27, 2024
spot_img

प्रभु राम के आशीर्वाद से हो रहे त्रेता की अयोध्या के दर्शनः पीएम मोदी

66 / 100

प्रभु राम के आशीर्वाद से हो रहे त्रेता की अयोध्या के दर्शनः पीएम मोदी

-पीएम मोदी और सीएम योगी ने दीपोत्सव कार्यक्रम का किया अवलोकन

– पीएम और सीएम ने संगीतमय लेजर शो और प्रोजेक्शन मैपिंग के जरिए देखी रामायण

अयोध्या :अयोध्या में छठवें दीपोत्सव कार्यक्रम में पीएम मोदी और सीएम योगी ने प्रज्ज्वलित दीपों का अवलोकन किया। इसके बाद भव्य लाइटिंग के बीच प्रोजेक्शन मैपिंग और संगीतमय लेजर शो के जरिए रामायण का भी प्रदर्शन किया गया। इससे पहले, कार्यक्रम में पीएम मोदी ने एक बार फिर राम और अयोध्या को केंद्र में रखते हुए देशवासियों को दीपावली की शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि आज अयोध्या दीपों से दिव्य हैं, भावना से भव्य हैं। आज अयोध्यानगरी भारत के सांस्कृतिक पुनर्जागरण के स्वर्णिम अध्याय का प्रतिबिंब है। मैं जब यहां आ रहा था तो मेरे मन में भाव, भावनाओं और भावुकता की लहर उठ रही थी। मैं सोच रहा था कि जब 14 वर्ष के वनवास के बाद प्रभु श्रीराम अयोध्या आए होंगे तो अयोध्या कैसे सजी होगी, कैसे संवरी होगी। हमने त्रेता की उस अयोध्या के दर्शन नहीं किए, लेकिन प्रभु राम के आशीर्वाद से आज अमृतकाल में अमर अयोध्या की अलौकिकता के साक्षी बन रहे हैं।

उत्सव हमारे जीवन का हिस्सा

पीएम मोदी ने कहा, हम उस सभ्यता और संस्कृति के वाहक हैं पर्व और उत्सव जिनके जीवन का हिस्सा रहे हैं। हमारे यहां जब भी समाज ने कुछ नया किया, हमने एक नया उत्सव रच दिया। सत्य की हर विजय के, असत्य के हर अंत के, मानवीय संदेश को हमने जितनी मजबूती से जीवंत रखा, इसमें भारत का कोई सानी नहीं है। प्रभु श्रीराम ने रावण के अत्याचार का अंत हजारों वर्ष पूर्व किया था, लेकिन आज उस घटना का एक-एक मानवीय संदेश आध्यात्मिक संदेश एक-एक दीपक के रूप में सतत प्रकाशित होता है।

JOIN

दीपक भारत के आदर्शों का जीवंत ऊर्जापुंज

पीएम ने दीपक के महत्व को बताते हुए कहा कि दीपावली के दीपक हमारे लिए केवल एक वस्तु नहीं हैं, ये भारत के आदर्शों, मूल्यों और दर्शन के जीवंत ऊर्जापुंज हैं। जहां तक नजर जा रही है, ज्योतियों के जगमग प्रकाश का ये प्रभाव रात के ललाट पर रश्मियों का ये विस्तार भारत के मूलमंत्र सत्यमेव जयते की उद्घोषणा है। ये उद्घोषणा है हमारे उपनिषद वाक्यों की, सत्यमेव जयते, नानृतम् सत्येन पन्था विततो देवयानः अर्थात जीत सत्य की ही होती है। ये उद्घोषणा है हमारे ऋषि वाक्यों की…रामो राजमणि सदा विजयते, अर्थात विजय हमेशा राम रूपी सदाचार की होती है, रावण रूपी दुराचार की नहीं। तभी तो हमारे ऋषियों ने भौतिक दीपक में भी चेतन ऊर्जा के दर्शन करते हुए कहा था…दीपो ज्योति परब्रह्म, दीपो ज्योति जनार्दनः अर्थात दीप ज्योति ब्रह्म का स्वरूप है। मुझे पूर्व विश्वास है ये आध्यात्मिक प्रकाश भारत के पुनरोत्थान का पथ प्रदर्शन करेगा।

ये दया और करुणा का प्रकाश है

पीएम ने आगे कहा, आज इस पावन अवसर पर जगमगाते हुए इन लाखों दीयों की रोशनी में देशवासियों को एक और बात याद दिलाना चाहता हूं। रामचरित मानस में गोस्वामी तुलसीदास ने कहा है कि भगवान राम पूरे विश्व को प्रकाश देने वाले हैं। वो पूरे विश्व के लिए एक ज्योतिपुंज की तरह हैं। ये प्रकाश दया और करुणा का प्रकाश है। ये प्रकाश है मानवता और मर्यादा का। ये प्रकाश है समभाव और ममभाव का। ये प्रकाश है सबके साथ का। ये प्रकाश है सबको साथ लेकर चलने का। मुझे याद है बरसों पहले लड़कपन में गुजराती में दीपक पर एक कविता लिखी थी जिसका शीर्षक था दिया। उसकी कुछ लाइनें याद आ रही हैं। मैंने लिखा था, दिया आशा भी देता है और दिया ऊष्मा भी देता है। दिया आग भी देता है और दिया आराम भी देता है। उगते सूरज को तो हर कोई पूजता है, लेकिन दिया अंधेरी शाम में भी साथ देता है। दिया स्वंय जलता है और अंधेरे को भी जलाता है। दिया मनुष्य के मन में समर्पण का भाव लाता है। हम स्वयं जलते हैं, स्वयं तपते हैं, स्वयं खपते हैं लेकिन जब सिद्धि का प्रकाश पैदा होता है तो हम उसे निष्काम भाव से पूरे संसार के लिए बिखेर देते हैं। जब हम स्वार्थ से ऊपर उठकर परमार्थ की यात्रा करते हैं तब हम सर्वसमावेश का संकल्प अपने आप समाहित हो जाता है। जब हमारे संकल्पों की सिद्धि होती है तो हम कहते हैं कि ये सिद्धि मेरे लिए नहीं है ये मानव कल्याण के लिए है। दीप से दीपावली तक यही भारत का दर्शन है, यही चिंतन है, यही भारत की चिरंतन संस्कृति है।

मुश्किलों में भी दीप जलाना नहीं छोड़ा

पीएम ने आगे कहा, मध्यकाल और आधुनिक काल तक भारत ने कितने अंधकार भरे युगों का सामना किया। जिन झंझावतों में बड़ी सभ्यताओं के सूर्य अस्त हो गए, उनमें हमारे दीपक जलते रहे, प्रकाश देते रहे। फिर उन तूफानों को शांत कर उदीप्त हो उठे। क्योंकि हमने दीप जलाना नहीं छोड़ा, हमने विश्वास बढ़ाना नहीं छोड़ा। बहुत समय नहीं हुआ, जब कोरोना के हमलों के बीच इसी भाव से हर एक भारतवासी एक-एक दीपक लेकर खड़ा हो गया था और आज कोरोना के खिलाफ युद्ध में भारत कितनी ताकत से लड़ रहा है ये दुनिया देख रही है। ये प्रमाण है कि अंधकार के हर युग में भारत ने प्रगति के प्रशस्ति पत्र पर अपने पराक्रम का प्रकाश अतीत में भी बिखेरा है, भविष्य में भी बिखेरेगा। जब प्रकाश हमारे कर्मों का साक्षी बनता है तो अंधकार का अंत अपने आप सुनिश्चित हो जाता है। जब दीपक हमारे कर्मों का साक्षी बनता है तो नई सुबह, नई शुरुआत का आत्मविश्वास सुदृढ़ हो जाता है।

ALSO READ

आयुर्वेद कैसे काम करता है – क्या है तीन दोष ?

सम्पूर्ण भोजन के साथ अपने बच्चे का पूर्ण विकास सुनिश्चित करें : आचार्य डॉक्टर आरपी पांडे 

वजन कम करने में कारगर हे ये आयुर्वेदिक औषधियाँ :आचार्य डॉक्टर आरपी पांडे

सोने से पहले पैरों की मालिश करेंगे तो होंगें ये लाभ: आचार्य डॉक्टर आरपी पांडे

कुलपति अवध विश्वविद्यालय के कथित आदेश के खिलाफ मुखर हुआ एडेड डिग्री कालेज स्ववित्तपोषित शिक्षक संघ

अयोध्या में श्री राम मंदिर तक जाने वाली सड़क चौड़ीकरण के लिए मकानों और दुकानों का ध्वस्तीकरण शुरू

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने राम जन्मभूमि परिसर के विकास की योजनाओं में किया बड़ा बदलाव

पत्रकार को धमकी देना पुलिस पुत्र को पड़ा महंगा

बीएचयू : शिक्षा के अंतरराष्ट्रीयकरण के लिए संस्थानों को आकांक्षी होने के साथ साथ स्वयं को करना होगा तैयार

राष्ट्रीय शिक्षा नीति का उद्देश्य शिक्षा को 21वीं सदी के आधुनिक विचारों से जोड़ना : PM मोदी

प्रवेश सम्बधित समस्त जानकारी विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है।

घर की छत पर सोलर पैनल लगाने के लिए मिल रही सब्सिडी, बिजली बिल का झंझट खत्म

बीएचयू : कालाजार को खत्म करने के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में महत्वपूर्ण खोज

JOIN

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

For You
- FOLLOW OUR GOOGLE NEWS FEDS -spot_img
डा राम मनोहर लोहिया अवध विश्व विश्वविद्यालय अयोध्या , परीक्षा समय सारणी
spot_img

क्या राहुल गांधी की संसद सदस्यता रद्द होने से कांग्रेस को फायदा हो सकता है?

View Results

Loading ... Loading ...
Latest news
प्रभु श्रीरामलला सरकार के शुभ श्रृंगार के अलौकिक दर्शन का लाभ उठाएं राम कथा सुखदाई साधों, राम कथा सुखदाई……. दीपोत्सव 2022 श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने फोटो के साथ बताई राम मंदिर निर्माण की स्थिति