अयोध्यालाइव

Sunday, October 2, 2022

उदयपुर हत्याकांड: कन्हैया लाल के पुत्र ने कहा- पिता के हत्यारों का हो एनकाउंटर या दी जाय फांसी

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
udaypur kand

Listen

उदयपुर हत्याकांड: कन्हैया लाल के पुत्र ने कहा- पिता के हत्यारों का हो एनकाउंटर या दी जाय फांसी

राजस्थान के उदयपुर में हुए टेलर कन्हैया लाल की निर्मम हत्या के बाद पुलिस काफी सतर्क हो गई है, कानून व्यवस्था बनाए रखने धारा-144 लागू कर दी गई है। इसके साथ ही सरकार ने सख्त निर्देश दिए हैं कि उदयपुर घटना का वीडियो वायरल करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.

मृतक कन्हैया लाल के पुत्र ने भी अपने पिता के लिए इंसाफ की मांग की है। उनका कहना है कि हत्यारों का एनकाउंटर हो या दी जाय फांसी, उन्हे भी डर पैदा करने की जरूरत है।

उदयपुर में खौफनाक वारदात की पूरी कहानी

भीमा कस्बे के रहने वाले 40 वर्षीय कन्हैयालाल पेशे से दर्जी थे। वह उदयपुर में दुकान चलाते थे। मंगलवार को वह कन्हैयालाल जब अपनी दुकान में थे तभी दोपहर करीब ढाई बजे दो लोग वहां पहुंचे और उनसे कपड़े सिलवाने के लिए माप लेने को कहा। कन्हैयालाल एक शख्स की माप लेने लगे। तभी उस शख्स ने कन्हैयाला को दोनों हाथों से पकड़ लिया। जब तक कन्हैयालाल कुछ समझ पाते तब तक बदमाशों ने उन पर कई बार खंजर से हमला कर दिया, जिससे उनकी तत्काल मौत हो गई। दोनों आरोपियों में एक ने कन्हैयालाल पर खंजर से वार किया दूसरा पूरे घटनाक्रम का वीडियो बनाता रहा। कन्हैयालाल की हत्या करने के बाद दोनों आरोपी अपने घर आए और दोबारा से वीडियो बनाकर हत्या की जिम्मेदारी ली।

दोनों वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट करने के बाद आरोपी बाइक से राजसमंद की ओर भाग निकले।

एडीजी लॉ एंड ऑर्डर हवा सिंह घुमारिया ने बताया कि 10 जून को कन्हैयालाल के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी कि उन्होंने मोहम्मद साहब पर की गई आपत्तिजनक टिप्पणी को आगे प्रचारित किया। मुकदमा दर्ज किया और कन्हैयालाल को गिरफ्तार कर लिया गया। 10 मई को मुकदमा दर्ज हुआ, उसी दिन कन्हैयालाल की गिरफ्तारी हुई जिसके बाद कोर्ट में पेशी के तुरंत बाद इसकी बेल हो गई थी। बेल पर बाहर आने के बाद कन्हैयालाल ने 15 जून को थाने में एक लिखित शिकायत देते हैं कि मुझे जान से मारने की धमकियां मिल रही है। इसलिए मुझे सुरक्षा दी जाए। तत्काल SHO ने उन लोगों को थाने में बुला लिया जिनपर कन्हैयालाल ने धमकाने के आरोप लगाए थे। इसके बाद SHO की मौजूदगी में दोनों ही समुदाय के 5-7 जिम्मेदार लोगों को बुलाया जाता है। दोनों समुदाय के जिम्मेदार लोगों की मौजूदगी में समझौता करा दिया गया था। इस वजह से उस शिकायत पर आगे कोई कार्रवाई नहीं हुई। परिजनों का आरोप है कि लगातार धमकियों से परेशान कन्हैयालाल ने कई दिन से अपनी दुकान नहीं खोली थी।

उदयपुर में टेलर कन्हैयालाल की हत्या अचानक नहीं हुई, बल्कि उसे कई दिनों से धमकियां मिल रही थीं। उसने पुलिस को धमकी मिलने की शिकायत करते हुए सुरक्षा की भी मांग की थी। इससे पहले उसे गिरफ्तार भी किया गया।राजस्थान के उदयपुर में मंगलवार को दोपहर बाद हुई घटना ने पूरे देश तो स्तब्ध कर दिया है। पैगंबर मोहम्मद साहब को लेकर पिछले दिनों आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाली नूपुर शर्मा के समर्थन में गलती से हुए एक पोस्ट की वजह से कट्टरपंथियों ने टेलर कन्हैयालाल का गला रेत दिया।कपड़े सिलवाने के बहाने दुकान में घुसे आरोपियों ने पूरी घटना को कैमरे में भी कैद किया और दो वीडियो जारी करते हुए पीएम मोदी को भी मारने की धमकी दी।

एनआईए करेगी मामले की जांच

उदयपुर की घटना पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि यूएपीए के तहत मामला दर्ज किया गया है, आगे की जांच एनआईए करेगी जिसमें राजस्थान एटीएस पूरा सहयोग करेगा.

राजस्थान के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर हवा सिंह घुमारिया ने बताया कि कन्हैयालाल के पोस्ट से आहत कुछ लोगों ने उदयपुर में पुलिस को शिकायत दी। पुलिस ने 10 जून को कन्हैयालाल के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया और उसे उसी दिन गिरफ्तार कर लिया। हालांकि, कोर्ट में पेशी के बाद कन्हैया को जमानत मिल गई।

यह मामूली घटना नहीं, आतंकवाद है- वसुंधरा

कन्हैया लाल हत्याकांड पर राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि ये मामूली घटना नहीं है, ये एक तरह से आतंकवाद है. इसकी जितनी भर्त्सना करेंगे वो कम ही रहेगा. उन्होंने कहा- सांप्रदायिक उन्माद के पीछे कौन लोग हैं? कौन से संगठन हैं? ऐसी चीजें राजस्थान में कभी नहीं हुई हैं. उन्होंने कहा जो 2 दोषी सामने दिख रहे हैं सिर्फ वही नहीं उसके पीछे जो लोग होंगे, जहां से इसकी शुरुआत हुई होगी, उन्हें भी कड़ी से कड़ी सजा दी जाए. उन्होंने एक रास्ता है कि सरकार सक्रिय हो और दूसरा रास्ता है कि बहाना बनाया जाए. अपने कंधों पर तो लेना नहीं है उसकी बजाए पूरी समस्या किसी दूसरे के कंधों पर डाल दीजिए, वही अशोक गहलोत कर रहे हैं.

कन्हैया ने पुलिस से की शिकायत, मांगी थी सुरक्षा

कन्हैयालाल को जमानत पर रिहा होने के बाद लगातार धमकियां मिलने लगीं। कट्टरपंथी उसे फोन और मैसेज करके जान से मारने की धमकी देने लगे। 15 जून को कन्हैया शिकायत लेकर पुलिस के पास पहुंचा। उसने धमकी मिलने की बात कहते हुए पुलिस से सुरक्षा की मांग की। खुद एडीजी लॉ एंड ऑर्डर ने इसकी पुष्टि की है।गिरफ्तारी की बजाय पुलिस ने कराया समझौता

कन्हैयालाल को गिरफ्तार करने में चुस्त दिखने वाली पुलिस उसको मिली धमकियों पर सुस्त नजर आई। पुलिस ने धमकी देने वालों को गिरफ्तार करने की बजाय उन्हें थाने में बुलाकर समझौता करा दिया। पुलिस ने दोनों पक्षों को समझा-बुझाकर घर भेज दिया। लेकिन कन्हैयालाल को मिली धमकियों को नजरअंदाज करते हुए उसे सुरक्षा नहीं मुहैया कराई गई।

हत्यारों का एनकाउंटर हो – कन्हैयालाल के बेटे की मांग

कन्हैयालाल की नृशंस हत्या पर बेटे ने कहा, “हम चाहते हैं कि या तो उनका (हत्यारों का) एनकाउंटर हो या उन्हें फांसी पर लटका दिया जाए। उनमें डर पैदा करने की जरूरत है।”

17 को कत्ल का ऐलान, 28 को दिया अंजाम

आरोपी मोहम्मद रियाज ने 17 जून को एक वीडियो बनाते हुए यह ऐलान किया था कि वह नबी की शान में गुस्ताखी करने वाले का सिर तन से जुदा कर देगा। उसने जैसा कहा था वैसा ही किया। इस ऐलान के ठीक 11वें दिन उसने अपने साथी गौस मोहम्मद के साथ मिलकर कन्हैयालाल की बेरहमी से हत्या कर दी।

उदयपुर की घटना के बाद यूपी में पुलिस अलर्ट

उदयपुर की घटना पर देवेंद्र सिंह चौहान, यूपी DGP ने कहा कि उत्तर प्रदेश की काफी सीमाएं राजस्थान से मिलती हैं। उदयपुर की घटना को लेकर हम सतर्कता बरत रहें है। पुलिस जमीन पर मुस्तैद है। हमने सोशल मीडिया पर नज़र बनाई हुई है। कोई भी व्यक्ति शरारती और भड़काऊ पोस्ट करेगा तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

उदयपुर में क्रूर हत्या ने मानवता को झकझोर दिया- जामा मस्जिद के इमाम

कन्हैयालाल की हत्या पर दिल्ली की जामा मस्जिद के इमाम ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने इसकी निंदा करते हुए कहा, “उदयपुर में क्रूर हत्या ने मानवता को झकझोर दिया है… ये गैर-इस्लामिक, अवैध और अमानवीय है।”

उदयपुर हत्याकांड की जमीयत ने भी की निंदा

जमीयत उलेमा-ए-हिंद के महासचिव मौलाना हकीमुद्दीन कासमी ने पवित्र पैगंबर के कथित अपमान के संदर्भ में उदयपुर में की गई हत्या की निंदा की है। जमीयत उलेमा-ए- हिंद के प्रेस सचिव की ओर से भेजे गये एक बयान में उन्होंने कहा, ‘जिसने भी इस घटना को अंजाम दिया उसे किसी भी तरह से जायज नहीं ठहराया जा सकता, यह देश के कानून और हमारे धर्म के खिलाफ है।’ उन्होंने कहा, ‘हमारे देश में क़ानूम की व्यवस्था है, किसी को भी क़ानूम अपने हाथ में लेने का अधिकार नहीं है।’

प्रदेश के 520 राजस्व निरीक्षकों को नायब तहसीलदार के पद पर पदोन्नति देखें लिस्ट

यूपी : बेसिक शिक्षा विभाग में बड़ा फेरबदल, देखें लिस्ट

Click here to purchase Exipure today at the most reduced cost accessible.

अयोध्यालाइव समाचार youtube चैनल को subscribe करें और लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहे

घर की छत पर सोलर पैनल लगाने के लिए मिल रही सब्सिडी, बिजली बिल का झंझट खत्म

BSF Bharti 2022: 10th, 12th pass in BSF can Get Jobs on these Posts

बीएचयू : कालाजार को खत्म करने के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में महत्वपूर्ण खोज

The Home Doctor – Practical Medicine for Every Householdis a 304-page doctor-written and approved guide on how to manage most health situations when help is not on the way.

ADVERTISEMENT

Related News

Leave a Reply

JOIN TELEGRAM AYODHYALIVE

Currently Playing
Coming Soon
देश का सबसे प्रभावशाली प्रधानमंत्री कौन रहा है?
देश का सबसे प्रभावशाली प्रधानमंत्री कौन रहा है?
देश का सबसे प्रभावशाली प्रधानमंत्री कौन रहा है?

Our Visitor

126263
Users Today : 30
Total Users : 126263
Views Today : 41
Total views : 163512
October 2022
M T W T F S S
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31  
Currently Playing

OUR SOCIAL MEDIA

Also Read

%d bloggers like this: