अयोध्यालाइव

विश्व पर्यावरण दिवस पर कृषि विश्वविद्यालय में हरिशंकरी वाटिका का हुआ स्थापना

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
क्या आप जानते है धर्मशास्त्र में हरिशंकरी वृक्ष के महत्व

Listen

Advertisements

विश्व पर्यावरण दिवस पर कृषि विश्वविद्यालय में हरिशंकरी वाटिका का हुआ स्थापना

वायु प्रदूषण तो केवल पर्यावरणीय मुद्दा है, यदि हम एक साथ मिलकर करें प्रयास, तो पर्यावरण को प्रभावित करने वाले कारणों को बेहतर बनाने की दिशा में कर सकते हैं सार्थक पहल – कुलपति डॉ बिजेंद्र सिंह 

कुमारगंज(अयोध्या) :आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय कुमारगंज,अयोध्या के तत्वाधान में आज विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर वृक्षारोपण का वृहद रूप से आयोजन किया गया। विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर कुलपति डॉ बिजेंद्र सिंह ने कहा कि वायु प्रदूषण तो केवल पर्यावरणीय मुद्दा है, जबकि जल, जंगल ,जमीन ,जानवर, और जन के बीच का रिश्ता और संतुलन बिगड़ना ही पर्यावरण संकट है । इन सब का आपस में सामंजस्य बनाए रखना बहुत ही आवश्यक है ।

पर्यावरण के इतिहास, महत्त्व एवं इसका स्वास्थ्य पर पड़ने वाले असर के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि वायु प्रदूषण दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है और इसे नियंत्रित करना जटिल हो रहा है, लेकिन सब का आह्वान करते हुए कहा कि कुछ भी असंभव नहीं होता है, इसका मुकाबला करने के लिए सबको एक साथ मिलकर आना चाहिए , जिससे पर्यावरण को प्रभावित करने वाले कारणों को बेहतर बनाने की दिशा में कार्य किया जा सके।

हरिशंकरी वृक्ष के महत्व के बारे में डॉ अखिलेश कुमार ने विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि पीपल, बरगद एवं पाकड के पौधों को एक ही गड्ढे में एक साथ लगाया जाता है।

वृक्ष के तने विकसित होने पर ही पर एक ही वृक्ष दिखाई देता है।
इसके साथ साथ ही विश्व विद्यालय के समस्त छात्रावासों में भी बृहद रूप से छात्रों द्वारा छात्र कल्याण अधिष्ठाता, छात्रावास अधीक्षक एवं शिक्षकों के साथ वृक्षारोपण का कार्यक्रम किया गया।

पीपल बरगद व पाकड़ के सम्मिलित रोपण को हरिशंकरी कहते हैं। हरिशंकरी पौध (पीपल, बरगद,पाकड़) पीपल में त्रिदेवों यानि ब्रहमा, विष्णु व महेश का वास माना जाता है। बरगद का वृक्ष अक्षय सुहाग के रूप में पूजा जाता है। मान्यता है कि इसकी शाखों के विष्णु का निवास होता है। पाकड़ का वृक्ष भी देवताओं द्वारा संरक्षित माना जाता है। पीपल ही एकलौता पौधा है तो 24 घंटे आक्सीजन का उत्सर्जन करता है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हरिशंकरी के पौधरोपण के जरिए एक नई राह दिखाई। उन्होंने एक ही स्थान पर तीन पौधे (पीपल, पाकड़ और बरगद ) रोपे।

हरिशंकरी का अर्थ है- विष्णु और शंकर की छायावली (हरि= विष्णु शंकर= शिव) हिन्दू मान्यता में पीपल को विष्णु व बरगद को शंकर का स्वरूप माना जाता है। मत्स्य पुराण के अनुसार पार्वती जी के श्राप- वश विष्णु- पीपल, शंकर- बरगद व ब्रह्मा- पलाश वृक्ष बन गये। पौराणिक मान्यता में पाकड़ वनस्पति जगत का अधिपति व नायक है व याज्ञिक कार्यों हेतु श्रेष्ठ छाया वृक्ष है। इस प्रकार हरिशंकरी की स्थापना एक परम पुण्य व श्रेष्ठ परोपकारी कार्य है।

हरिशंकरी के वृक्षों का विवरण : हरिशंकरी के तीनों वृक्षों को एक ही स्थान पर इस प्रकार रोपित किया जाता है कि तीनों वृक्षों का संयुक्त छत्र विकसित हो व तीनों वृक्षों के तने विकसित होने पर एक तने के रूप में दिखाई दें। हरिशंकरी के तीनों वृक्षों का विस्तृत विवरण निम्र अनुसार है।

पीपल : पीपल को संस्कृत में पिप्पल (अर्थात् इसमें जल है), बोधिद्रुम (बोधि प्रदान करने वाला वृक्ष), चलदल (निरन्तर हिलती रहने वाली पत्तियों वाला), कुंजराशन (हाथी का भोजन), अच्युतावास (भगवान विष्णु का निवास), पवित्रक (पवित्र करने वाला) अश्वत्थ (यज्ञ की अग्रि का निवास स्थल) तथा वैज्ञानिक भाषा में फाइकस रिलिजिओसा कहते हैं। चिडिय़ाँ इसके फलों को खाकर जहां मल त्याग करती है वहां थोड़ी सी भी नमी प्राप्त होने पर यह अंकुरित होकर जीवन संघर्ष करता है। दूर- दूर तक जड़ें फैलाकर जल प्राप्त कर लेना इसकी ऐसी दुर्लभ विशेषता है जिसके कारण इसका नाम पिप्पल (अर्थात् इसमें जल है), रखा गया है। वैज्ञानिक भी इसे पर्यावरणीय दृष्टि से अत्यधिक महत्त्व का वृक्ष मानते हैं। इसके पके फल मीठे और पौष्टिक होते हैं।
औषधीय दृष्टि से पीपल शीतल, रुक्ष, वर्ण को उत्तम बनाने वाला, एवं पित्त, कफ, व्रण तथा रक्तविकार को दूर करने वाला है।

इस वृक्ष में भगवान विष्णु का निवास माना जाता है। भगवान कृष्ण ने गीता में कहा है कि वृक्षों में मैं पीपल हूँ (अश्वत्थ: सर्व वृक्षाणाम्) इस वृक्ष के रोपण, सिंचन, परिक्रमा, नमन- पूजन करने से हर तरह से कल्याण होता है और सभी दुर्भाग्यों का नाश होता है।

जलाशयों के किनारे इस वृक्ष के रोपण का विशेष पुण्य बताया गया है, (इसकी पत्तियों में चूना अधिक मात्रा में होता है जो जल को शुद्ध करता है)। बृहस्पति ग्रह की शान्ति के लिए इस वृक्ष की समिधा प्रयुक्त होती है। अरणी से यज्ञ की अग्रि उत्पन्न करने के लिए इसके काष्ठ की मथनी बनती है। शास्त्रीय मान्यता में घर के पश्चिम में स्थित पीपल शुभ किन्तु पूरब दिशा में अशुभ होता है। ध्यान करने के लिये पीपल की छाया सर्वश्रेष्ठ मानी जाती है, राम चरित मानस में वर्णन है कि काकभुशुण्डि जी पीपल वृक्ष के नीचे ध्यान करते थे (पीपर तरु तर ध्यान जो धरई)।

बरगद : बरगद को संस्कृत में वट (घेरने वाला) न्यग्रोध (घेरते हुए बढऩे वाला), बहुपाद, रक्तफल, रोहिण, यक्षावास कहते हैं तथा अंग्रजी भाषा में इसे बैनियन ट्री (बनियों का वृक्ष) व वैज्ञानिक भाषा में फाइकस बेन्गालेन्सिस कहते हैं। यह सदाहरित विशालकाय छाया वृक्ष है जो पूरे भारत में पाया जाता है। इसकी शाखाओं से जड़े निकल कर लटकती हैं जो जमीन में प्रवेश करने के बाद अपनी शाखा को अपने आध्यम से पोषण व आधार प्रदान करने लगती हैं। इस प्रकार बरगद वृक्ष का विस्तार बढ़ता जाता है। इस कारण यह अक्षयकाल तक जीवित रहने की क्षमता रखता है। अत: अत्यधिक पुराने बरगद वृक्षों को प्राचीन काल में अक्षय वट कहा जाता था। इसकी छाया घनी होती है तथा इसके नीचे अन्य कोई भी वृक्ष नहीं पनप सकता।
इसके फलों को मानव व पशु पक्षी खाते हैं, जो शीत व पौष्टिक गुणयुक्त होते हैं। इसके दूध को कमर दर्द, जोड़ों के दर्द, सड़े हुए दांत का दर्द, बरसात में होने वाले फोड़े फुन्सियों पर लगाने से लाभ मिलता है। इसकी छाल का काढ़ा बहुमूत्र में तथा फल मधुमेह में लाभप्रद है।

कथा श्रवण के लिए इस वृक्ष की छाया उत्तम मानी गयी है। इस वृक्ष में भगवान शंकर का निवास माना जाता है। वटवृक्ष के विस्तार करने की अदम्य क्षमता व अक्षयकाल तक जीवित रह सकने की सम्भावना पूज्य बनाती है। सीता जी ने वनवास की यात्रा में इस वृक्ष की पूजा की थी।

वट सावित्री व्रत पति की लम्बी आयु के लिए ज्येष्ठ अमावस्या को महिलाओं द्वारा किया जाता है। इन दिनों (लगभग जून प्रथम सप्ताह) में वृक्ष को जल की महती आवश्यकता होती है। वृक्षायुर्वेेद के अनुसार घर के पूरब में स्थित बरगद वृक्ष सभी कामनाओं की पूर्ति करने वाला होता है किन्तु घर के पश्चिम में हाने पर हानिकारक होता है।

पाकड़ : पाकड़ को संस्कृत में प्लक्ष , पर्कटी पर्करी, जटी, व वैज्ञानिक भाषा में फाइकस इनफेक्टोरिया कहते है। यह लगभग सदा हराभरा रहने वाला वृक्ष है जो जाड़े के अन्त में थोड़े समय के लिये पतझड़ में रहता है। इसका छत्र काफी फैला हुआ और घना होता है, इसकी शाखायें जमीन के समानान्तर काफी नीचे तक फैल जाती हैं। जिससे घनी शीतल छाया का आनन्द बहुत करीब से मिलता है। इसकी विशेषता के कारण इसे प्लक्ष या पर्कटी कहा गया जो हिन्दी में बिगडक़र क्रमश: पिलखन व पाकड़ हो गया। यह बहुत तेज बढक़र जल्दी छाया प्रदान करता है। शाखाओं या तने पर जटा मूल चिपकी या लटकी रहती है। फल मई जून तक पकते हैं और वृक्ष पर काफी समय तक बने रहते हैं। गूलर की तुलना में इसके पत्ते अधिक गाढ़े रंग के होते हैं जो सहसा काले प्रतीत होते हैं जिसके कारण इस वृक्ष के नीचे अपेक्षाकृत अधिक अन्धेरा प्रतीत होता है।

यह घनी और कम ऊँचाई पर छाया प्रदान करने के करण सडक़ों के किनारे विशेष रूप से लगाया जाता है। इसकी शाखाओं को काटकर रोपित करने से वृक्ष तैयार हो जाता है।

औषधीय दृष्टि से यह शीतल एवं व्रण, दाह, पित्त, कफ, रक्त विकार, शोथ एवं रक्तपित्त को दूर करने वाला है।
पौराणिक मान्यता से सात या नौ द्वीपों में एक द्वीप का नाम प्लक्ष द्वीप है जिस पर पाकड़ का वृक्ष है, विष्णु यहां सोम रूप में रहते हैं। मत्स्य पुराण के अनुसार इसे इसे वन-वृक्षों का अधिपति बताया गया था, गौरूपी पृथ्वी को दुहने के समय यह वृक्षों के लिए बछड़ा बना था। नारद पुराण के अनुसार ब्रह्मा ने विश्व में साम्राज्यों का बटवारा करते समय पाकड़ को वनस्पतियों का राजा नियुक्त किया। यज्ञ कर्म के लिए इस वृक्ष की छाया श्रेष्ठ मानी जाती है। वृक्षायुर्वेद के अनुसार घर के उत्तर में पाकड़ लगाना शुभ होता है।

इसके महत्व का पौराणिक काल में विवरण है

इस सम्मिलित रोपण को हरिशंकरी कहते हैं। श्री सिंह ने बताया कि भगवान श्री हरि विष्णु और भगवान शंकर की छाया बली को ही हरिशंकरी कहा जाता है और पौराणिक मान्यताओं के अनुसार पीपल को भगवान विष्णु व बरगद को भगवान शिव का स्वरूप माना जाता है, वहीं पाकड़ को वनस्पति जगत के अधिपति नायक कहा जाता है ।

जीवों को आश्रय: हरिशंकरी में तमाम पशु- पक्षियों व जीव- जन्तुओं को आश्रय व खाने को फल मिलता है, अत: हरिशंकरी के रोपण, पोषण व रक्षा करने वाले को इन जीव जन्तुओं का आशीर्वाद मिलता है, इस पुण्यफल की बराबरी कोई भी दान नहीं कर सकता।

अमूल्य छाया: हरिशंकरी कभी भी पूर्ण पत्तीरहित नहीं होती है, वर्षभर इसके नीचे छाया बने रहने से पथिकों, विश्रान्तों व साधकों को छाया मिलती है। इस की छाया में दिव्य औषधीय गुण व पवित्र आध्यात्मिक प्रवाह निसृत होते रहतें हैं जो इसके नीचे बैठने वाले को पवित्रता, पुष्टता और उर्जा प्रदान करते हैं।

पर्यावरणीय महत्व:पर्यावरण संरक्षण व जैव विविधता संरक्षण की दृष्टि में पीपल, बरगद व पाकड़ सर्वश्रेष्ठ प्रजातियां मानी जाती हैं। हरीशंकरी का रोपण हर प्रकार से महत्वपूर्ण व पुण्यदायक कार्य है। इसे धर्म-स्थलों, विश्राम- स्थलों पर रोपित करना चाहिए।

विश्वविद्यालय खेलकूद मैदान पर हरिशंकरी (शिवशंकरी) वृक्ष का वृक्षारोपण विधिवत पूजन पाठ कर विश्वविद्यालय के कृषि वानिकी अधिष्ठाता डॉ ओ पी राव, पशु चिकित्सा महाविद्यालय के अधिष्ठाता डॉक्टर आर के जोशी, छात्र कल्याण अधिष्ठाता डॉ डी नियोगी , सामुदायिक विज्ञान महाविद्यालय अधिष्ठाता डॉ नमिता जोशी, कुलसचिव डॉक्टर प्रमाणिक, सह-अधिष्ठाता कृषि डॉ सुशील कुमार सिंह, प्रशासनिक अधिकारी डॉ अशोक कुमार, कुलपति के सचिव डॉ जसवंत सिंह, सह-छात्र कल्याण अधिष्ठाता डॉ एस पी सिंह, सह प्राध्यापक डॉ आभा सिंह, सहायक शोध निदेशक डॉ शंभू प्रसाद गुप्ता, सहायक प्राध्यापक डॉ एस के वर्मा ,डॉ मुकेश कुमार,डॉ देवनारायण पटेल, डॉ मनोज कुमार सिंह एवं छात्र तथा श्रमिकों ,आदि द्वारा किया गया।

उक्त कार्यक्रम विश्वविद्यालय एवं सामाजिक वानिकी प्रभाग अयोध्या, कुमारगंज के क्षेत्र रेंज क्षेत्राधिकारी श्री आर पी सिंह के सौजन्य से आयोजित किया गया।

https://www.voiceofayodhya.com/2022/05/bhu-scientists-part-of-global-research.html

https://go.fiverr.com/visit/?bta=412348&brand=fiverrcpa

https://amzn.to/38AZjdT

अयोध्यालाइव समाचार – YouTube Plz Like, Comment & subscribe

ADVERTISEMENT
Advertisements

Related News

Leave a Reply

JOIN TELEGRAM AYODHYALIVE

Currently Playing
Coming Soon
देश का सबसे प्रभावशाली प्रधानमंत्री कौन रहा है?
देश का सबसे प्रभावशाली प्रधानमंत्री कौन रहा है?
देश का सबसे प्रभावशाली प्रधानमंत्री कौन रहा है?

Our Visitor

119404
Users Today : 86
Total Users : 119404
Views Today : 120
Total views : 153962
July 2022
M T W T F S S
 123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
Currently Playing
July 2022
M T W T F S S
 123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031

OUR SOCIAL MEDIA

Also Read

%d bloggers like this: