Tuesday, May 30, 2023
spot_img

एसडीएम के ढुलमुल रवय्ये से अधिवक्ताओं में आक्रोश

69 / 100

एसडीएम के ढुलमुल रवय्ये से अधिवक्ताओं में आक्रोश

अधिवक्ताओं की निजी समस्या बनी ज्यों की त्यों

रुदौली(अयोध्या)अधिवक्तों के निजी प्रकरण में कार्यवाही न होने से अधिवक्ताओं का आक्रोश बढ़ता जा रहा है अधिवक्ता रमेश सिंह व गुंजित कुमार के प्रकरण में एसडीएम रुदौली स्वप्निल यादव के ढुलमुल रवय्ये बार बार आश्वासन के बावजूद अब तक प्रकरण का निराकरण न होने से आक्रोशित बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अली हैदर ने एक पत्र एसडीएम रुदौली को भेज कर अविलंभ कार्यवाही की मांग की है।

भेजे गए पत्र के माध्यम से कहा गया है कि अधिवक्ता रमेश कुमार सिंह की लगभग 15 वर्षों पूर्व बनी बाउंड्री वाल गिरा दी गई है जिसके संपूर्ण प्रकरण से आप अवगत हैं उक्त प्रकरण की शिकायत लिखित एवं मौखिक रूप से आप से की जा चुकी है तथा उक्त प्रकरण से संबंधित विवादित स्थल पर आप स्वयं भी जा चुके हैं और सत्यता आपके संज्ञान में आ चुकी है,

आपके द्वारा मौके पर उपस्थित रहकर प्रश्नगत भूमि की पैमाइश भी करा ली गई है जिसमें श्री रमेश कुमार सिंह एडवोकेट का रास्ता निकल रहा है पूर्व में आप द्वारा बार एसोसिएशन के प्रतिनिधि मंडल से की गई वार्ता में यह आश्वस्त किया गया था कि उक्त प्रकरण में निष्पक्ष कार्रवाई की जाएगी परंतु प्रत्येक स्तर से जांच उपरांत आप द्वारा उक्त प्रकरण में दोषी व्यक्ति के विरुद्ध अभी तक कोई कार्यवाही अमल में नहीं लाई गई है और न ही रमेश कुमार सिंह एडवोकेट की गिरायी गई बाउंड्री वॉल के निर्माण का कोई आदेश दिया गया है

अधिवक्ता अपना जायज़ हक पाने के लिए शांतिपूर्ण ढंग से अपनी उचित मांग आपके समक्ष प्रस्तुत कर रहे हैं लेकिन यदि उक्त प्रकरण में अविलंब प्रभावी एवं निष्पक्ष कार्यवाही नहीं की जाती है तो अधिवक्ताओं को अपना जायज़ एवं कानूनी हक प्राप्त करने के लिए जिस स्तर तक भी संघर्ष करना पड़े अधिवक्ता समाज उसे सहर्ष स्वीकार करने के लिए तैयार रहेगा।पत्र में आगे लिखा गया है ,

इसके अतिरिक्त गुंजित कुमार एडवोकेट के प्रकरण में अभी तक कोई कार्यवाही नहीं की गई है और अधिवक्तों द्वारा तहसील रुदौली में भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाय जाने की मांग पर भी कोई कार्यवाही नही हुवी और वर्तमान समय में भ्रष्टाचार अपनी चरम सीमा पार कर चुका हैं ऐसी स्थिति में बार एसोसिएशन रुदौली के अधिवक्ताओं में रोष व्याप्त है,

आपको इस आशय के साथ अवगत कराना आवश्यक है कि उक्त प्रकरण पर यदि यथाशीघ्र पीड़ित एवं हक़दार पक्ष के हक में आप द्वारा न्याय नहीं किया जाता है तो विवश होकर अधिवक्ता गण न्याय पाने हेतु एवं भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने हेतु अपनी अगली रणनीति पर विचार करेंगे जिसकी समस्त जिम्मेदारी शासन और प्रशासन की होगी।

ALSO READ

https://www.ayodhyalive.com/after-killing-th…m-of-an-accident/

कुलपति अवध विश्वविद्यालय के कथित आदेश के खिलाफ मुखर हुआ एडेड डिग्री कालेज स्ववित्तपोषित शिक्षक संघ

अयोध्या में श्री राम मंदिर तक जाने वाली सड़क चौड़ीकरण के लिए मकानों और दुकानों का ध्वस्तीकरण शुरू

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने राम जन्मभूमि परिसर के विकास की योजनाओं में किया बड़ा बदलाव

पत्रकार को धमकी देना पुलिस पुत्र को पड़ा महंगा

बीएचयू : शिक्षा के अंतरराष्ट्रीयकरण के लिए संस्थानों को आकांक्षी होने के साथ साथ स्वयं को करना होगा तैयार

राष्ट्रीय शिक्षा नीति का उद्देश्य शिक्षा को 21वीं सदी के आधुनिक विचारों से जोड़ना : PM मोदी

प्रवेश सम्बधित समस्त जानकारी विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है।

घर की छत पर सोलर पैनल लगाने के लिए मिल रही सब्सिडी, बिजली बिल का झंझट खत्म

बीएचयू : कालाजार को खत्म करने के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में महत्वपूर्ण खोज

JOIN

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

For You
- FOLLOW OUR GOOGLE NEWS FEDS -spot_img
डा राम मनोहर लोहिया अवध विश्व विश्वविद्यालय अयोध्या , परीक्षा समय सारणी
spot_img

क्या राहुल गांधी की संसद सदस्यता रद्द होने से कांग्रेस को फायदा हो सकता है?

View Results

Loading ... Loading ...
Latest news
प्रभु श्रीरामलला सरकार के शुभ श्रृंगार के अलौकिक दर्शन का लाभ उठाएं राम कथा सुखदाई साधों, राम कथा सुखदाई……. दीपोत्सव 2022 श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने फोटो के साथ बताई राम मंदिर निर्माण की स्थिति
%d bloggers like this: