Saturday, April 20, 2024
spot_img

पशुओं में तेजी से फैल रहा लंपी स्किन रोग : डॉ राकेश कुमार गुप्ता

67 / 100

पशुओं में तेजी से फैल रहा लंपी स्किन रोग :

डॉ राकेश कुमार गुप्ता

मिल्कीपुर(अयोध्या)।यह एक विषाणु जनित रोग है, जो लंपि स्किन डिजीज वायरस से होता है और गाठदार त्वचा से पहचाना जाता है। यह मुख्यता गाय और भैंस की बिमारी है। यह बीमारी मक्खी, मच्छर तथा जूं के काटने से अथवा दूषित चारा के माध्यम से एक पशु से दूसरे पशु में फैलता है। आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय के पशु विकृती विभाग पशु चिकित्सा एवं पशु पालन महाविद्यालय के पशु विकृति विभाग

के डॉ राकेश कुमार गुप्ता ने बताया कि भारत में इस बीमारी का पहला मामला 2019 में ओडिशा में आया था। भारत में यह रोग लगभग 16 राज्यों में फैल गया है। राजस्थान राज्य में तो हजारों पशुओं की मृत्यु हो चुकी है।

लक्षण – पशु के सिर और गर्दन पर गांठ बन जाती है ,जो धीरे धीरे पूरे शरीर में फैल जाती है। गांठ बडा होने लगता है और घाव के रूप मे परिवर्तित हो जाता है। बीमार पशुओं में बुखार रहता है और दुधारू पशुओं के दूध उत्पादन की क्षमता घटने लगती है। इस रोग का मृत्यु दर 10 प्रतिशत से भी कम है परन्तु सही समय पर इलाज न मिलने से पशु की मृत्यु भी हो जाती है। जिससे पशुपालकों को आर्थिक घाटा सहना पड़ता है।

उपचार – कोई प्रमुख इलाज नही है किंतु ब्रॉड स्पेक्ट्रम एंटीबायोटिक वा नॉन स्टेरॉयडल एंटी इन्फ्लेमेटरी ड्रग्स को उपयोग में लाकर पशु को बचाया जा सकता है। गांठ से उत्पन्न हुए घाव को लालदवा से साफ कर एंटीसेप्टिक मलहम लगाकर संक्रमण को कम किया जा सकता है।

रोकथाम – रोगी पशुओं को स्वस्थ पशुओं से दूर रखना चाहिए। पशुओं में बकरी पॉक्स यानी बकरी चेचक का टीका अवश्य लगवाएं। जो कि पशुओं को इस बिमारी से बचाने का प्रमुख उपाय माना जा रहा है। मच्छर मक्खी तथा जूं को मारने के लिए कीटनाशक का छिड़काव पशु के बाड़े में नियमित रुप से करें। पशु के आस पास साफ सफाई का विशेष ध्यान रखें।

रोग के लक्षण दिखने पर तुरंत अपने पशुचिकत्सक से संपर्क करें। मृतक पशु को गड्ढा खोदकर चूना व

नमक डालकर दफनाएं।

ALSO READ

कुलपति अवध विश्वविद्यालय के कथित आदेश के खिलाफ मुखर हुआ एडेड डिग्री कालेज स्ववित्तपोषित शिक्षक संघ

अयोध्या में श्री राम मंदिर तक जाने वाली सड़क चौड़ीकरण के लिए मकानों और दुकानों का ध्वस्तीकरण शुरू

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने राम जन्मभूमि परिसर के विकास की योजनाओं में किया बड़ा बदलाव

पत्रकार को धमकी देना पुलिस पुत्र को पड़ा महंगा

बीएचयू : शिक्षा के अंतरराष्ट्रीयकरण के लिए संस्थानों को आकांक्षी होने के साथ साथ स्वयं को करना होगा तैयार

राष्ट्रीय शिक्षा नीति का उद्देश्य शिक्षा को 21वीं सदी के आधुनिक विचारों से जोड़ना : PM मोदी

प्रवेश सम्बधित समस्त जानकारी विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है।

घर की छत पर सोलर पैनल लगाने के लिए मिल रही सब्सिडी, बिजली बिल का झंझट खत्म

बीएचयू : कालाजार को खत्म करने के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में महत्वपूर्ण खोज

JOIN

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

For You
- FOLLOW OUR GOOGLE NEWS FEDS -spot_img
डा राम मनोहर लोहिया अवध विश्व विश्वविद्यालय अयोध्या , परीक्षा समय सारणी
spot_img

क्या राहुल गांधी की संसद सदस्यता रद्द होने से कांग्रेस को फायदा हो सकता है?

View Results

Loading ... Loading ...
Latest news
प्रभु श्रीरामलला सरकार के शुभ श्रृंगार के अलौकिक दर्शन का लाभ उठाएं राम कथा सुखदाई साधों, राम कथा सुखदाई……. दीपोत्सव 2022 श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने फोटो के साथ बताई राम मंदिर निर्माण की स्थिति