Sunday, February 25, 2024
spot_img

भारत को विश्व की तीन अर्थव्यवस्थाओं में से एक बनाने में उच्च शिक्षा की भूमिका महत्वपूर्ण : कुलपति

50 / 100

भारत को विश्व की तीन अर्थव्यवस्थाओं में से एक बनाने में उच्च शिक्षा की भूमिका महत्वपूर्ण

उच्च शिक्षा भारत को विकसित भारत बनाने का सेतु है

लगभग 100 वर्षों के बाद, देश को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी में मिला है एक दूरदर्शी नेतृत्व

उच्च शिक्षा इस अवसर का लाभ उठाये: कुलपति

गोरखपुर: दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो राजेश सिंह आज इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय के लखनऊ क्षेत्रीय केंद्र में आयोजित 36वें दीक्षांत समारोह को बतौर ‘गेस्ट ऑफ ऑनर’ सम्बोधित किया।
इग्नू, नई दिल्ली में आयोजित मुख्य दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि महामहिम राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मू तथा गेस्ट ऑफ हॉनर शिक्षा मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान रहे।


आपने उद्बोधन में कुलपति ने कहा कि व्यापार और वाणिज्य के वैश्वीकरण के साथ, दुनिया आज एक छोटे से समुदाय में सिमट कर रह गई है। आज गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के मूल महत्व को समझना आवश्यक है। आजादी के बाद से, स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों की संख्या में जबरदस्त वृद्धि हुई है, लेकिन शिक्षा विशेष रूप से उच्च शिक्षा का प्रभाव बहुत कम रहा है।

शिक्षण संस्थान युवा पीढ़ी की आकांक्षाओं को पूरा नहीं कर पाए हैं। आज उच्च शिक्षा में भाग लेने वाली युवा पीढ़ी की कुल आबादी लगभग 80 लाख से अधिक है, लेकिन यह हमारी कुल आबादी का एक छोटा सा हिस्सा है। विश्व बैंक के एक अनुमान के अनुसार 18 से 23 वर्ष के आयु वर्ग की लगभग 6% जनसंख्या भारत में उच्च शिक्षा में भाग लेती है, जबकि विकसित देशों में यह औसतन 51% और मध्यम आय वाले देशों में 21% है।

कुलपति ने कहा कि नई शिक्षा नीति 2020 में 2035 तक उच्च शिक्षा में 50 फीसदी सकल नामांकन दर (जीईआर) का लक्ष्य रखा गया है। इग्नू ने ओपन एंड डिस्टेंस लर्निंग (ओडीएल) मोड के माध्यम से उच्च गुणवत्ता वाले शिक्षण की पेशकश करके सकल नामांकन अनुपात (जीईआर) को बढ़ाने की कोशिश की है। फिर भी आज उच्च शिक्षा की पहुंच, समानता और प्रासंगिकता के साथ विस्तारित करने की आवश्यकता है।

दूरस्थ शिक्षा पद्धति पर आधारित मुक्त विश्वविद्यालय बड़ी संख्या में उन लोगों को उच्च शिक्षा प्रदान करने के लिए एक प्रभावी विकल्प हैं जो पारंपरिक प्रणाली की मुख्य धारा में शामिल होने में सक्षम नहीं हैं।

इस अवसर पर, मुझे आप सभी के साथ यह साझा करते हुए खुशी हो रही है कि डीडीयू गोरखपुर विश्वविद्यालय को NAAC मूल्यांकन में A++ ग्रेड और 4-प्वाइंट स्केल पर 3.78 स्कोर प्राप्त हुआ है, जो इतना उच्च स्कोर प्राप्त करने वाला देश का चौथा विश्वविद्यालय बन गया है। संदेश यह है कि शिक्षा की गुणवत्ता बहुत महत्वपूर्ण है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह भारत में कहां से आ रहा है। डीडीयू गोरखपुर विश्वविद्यालय पूर्वांचल में स्थित है जिसे देश के पिछड़े क्षेत्रों में से एक माना जाता है। A++ ग्रेड दर्शाता है कि पिछड़े क्षेत्रों से भी उत्कृष्टता प्राप्त की जा सकती है। इसके लिए सिर्फ अपनी ताकत दिखाने और दिखाने की जरूरत है।

उद्योग की मांग के अनुरूप बनाने होंगे पाठ्यक्रम
एक महत्वपूर्ण बात यह है कि हमने 125 नए कार्यक्रमों के माध्यम से लगभग 1850 नए पाठ्यक्रम शुरू किए। हमने एनईपी के तहत सभी कार्यक्रमों को सीबीसीएस/सेमेस्टर और क्रेडिट आधारित कार्यक्रम के रूप में संशोधित किया।
हर पाठ्यक्रम को बाजार आधारित कौशल से जोड़ा जाना चाहिए। जब तक कोई नया कोर्स बनता है, तब तक उद्योग की मांग बदल जाती है या उद्योग ही बदल जाता है।

उद्योग की मांग के अनुरूप पाठ्यक्रम बनाने के लिए उच्च शिक्षा में प्रयास करने होंगे। हमारे पास सदी के दूरदर्शी प्रधानमंत्री हैं। देश के प्रधानमंत्री जी के दूरदर्शी नेतृत्व के अवसर का लाभ उठाएं। युवा आबादी सबसे बड़ी पूंजी है। लगभग 100 वर्षों के बाद, देश को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी में एक दूरदर्शी नेतृत्व मिला है। वह भारत को अमेरिका और चीन के दुनिया की तीन सर्वश्रेष्ठ अर्थव्यवस्थाओं के रूप में विकसित करने के लिए कार्यरत हैं। इस मौके का फायदा उठाने की जरूरत है। भारत को विश्व की तीन अर्थव्यवस्थाओं में से एक बनाने में उच्च शिक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका है।

उच्च शिक्षा भारत को विकसित भारत बनाने का सेतु है। अकेले सरकार सभी को रोजगार नहीं दे सकती, अकेले सरकार बेरोजगारी को खत्म नहीं कर सकती। सरकार सबको रोजगार नहीं दे सकती। इसके लिए हमें प्रतिभाओं को विकसित करने की जरूरत है। हमारे छात्र बहुत प्रतिभाशाली हैं। जहां टैलेंट होता है वहां माइक्रोसॉफ्ट, एमेजॉन जैसी कंपनियां जाती हैं। अगर हम टैलेंट डेवलप करेंगे तो ये कंपनियां यहां आएंगी।

विश्वविद्यालयों गुणवत्तापूर्ण ऑनलाइन शिक्षा प्रदान करने की चुनौती के लिए हो तैयार
आज कई शैक्षणिक संस्थान दूरस्थ शिक्षा और ऑनलाइन पाठ्यक्रम प्रदान कर रहे हैं। ऑनलाइन पाठ्यक्रमों, सामग्रियों और मूल्यांकन प्रणाली की गुणवत्ता बनाए रखना समय की मांग है। हमारे छात्रों को ऑनलाइन पाठ्यक्रमों का एक गुलदस्ता पेश करने की आवश्यकता है।

कोविड के बाद की दुनिया में चुनौती एमआईटी जैसे विदेशी विश्वविद्यालयों से है। एमआईटी 2000 से अधिक मुफ्त ऑनलाइन पाठ्यक्रम प्रदान करता है। हमारे विश्वविद्यालयों को गुणवत्तापूर्ण ऑनलाइन शिक्षा प्रदान करने की चुनौती के लिए तैयार रहना चाहिए।

3 मिलियन से अधिक छात्रों की शैक्षिक आकांक्षाओं को पूरा कर रहा इग्नू
1985 में अपनी स्थापना के बाद से इग्न समाज के हर वर्ग और देश के हर क्षेत्र तक पहुंच सुनिश्चित करके समावेशी शिक्षा के माध्यम से एक समावेशी ज्ञान समाज बनाने के लिए लगातार काम कर रहा है। इग्नू ने 1987 में 4,528 छात्रों के साथ दो शैक्षणिक कार्यक्रमों की शुरूआत की थी और आज यह 21 अध्ययन विद्यालयों और 67 क्षेत्रीय केंद्रों, लगभग 2,667 शिक्षार्थी सहायता केंद्रों और 29 विदेशी भागीदार संस्थानों के नेटवर्क के माध्यम से भारत और अन्य देशों में 3 मिलियन से अधिक छात्रों की शैक्षिक आकांक्षाओं को पूरा करता है। इग्नू लगभग 228 प्रमाणपत्र, डिप्लोमा, डिग्री और डॉक्टरेट कार्यक्रम प्रदान करता है।


समारोह में वरिष्ठ क्षेत्रीय निदेशक डॉ मनोरमा सिंह सहित शैक्षणिक समुदाय के विशिष्ट सदस्य तथा इग्नू के लखनऊ क्षेत्र के डिग्री और डिप्लोमा प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों ने सहभागिता की।
इस अवसर पर कुलपति प्रो राजेश सिंह ने सभी स्वर्ण पदक विजेताओं और डिग्री प्राप्त करने वाले युवक एवं युवतियों को बधाई देते हुए उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं दी।

http://www.voiceofayodhya.com/2023/04/higher-education-should-take-advantage.html

JOIN

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

For You
- FOLLOW OUR GOOGLE NEWS FEDS -spot_img
डा राम मनोहर लोहिया अवध विश्व विश्वविद्यालय अयोध्या , परीक्षा समय सारणी
spot_img

क्या राहुल गांधी की संसद सदस्यता रद्द होने से कांग्रेस को फायदा हो सकता है?

View Results

Loading ... Loading ...
Latest news
प्रभु श्रीरामलला सरकार के शुभ श्रृंगार के अलौकिक दर्शन का लाभ उठाएं राम कथा सुखदाई साधों, राम कथा सुखदाई……. दीपोत्सव 2022 श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने फोटो के साथ बताई राम मंदिर निर्माण की स्थिति