Friday, June 21, 2024
spot_img

विशेष निगरानी में होंगे प्रदेश के गोवंश आश्रय स्थल

विशेष निगरानी में होंगे प्रदेश के गोवंश आश्रय स्थल

JOIN

– आश्रय स्थलों की शत प्रतिशत होगी ईयर टैगिंग, भूसा प्रबंधन की होगी उचित व्यवस्था

– गोवंश आश्रय स्थलों की कमियों को दूर करने के लिये नियुक्त किये गये नोडल अधिकारी

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में गोवंश आश्रय स्थलों की विशेष रूप से निगरानी की जाएगी। यहां की समस्याओं का तत्काल निवारण किया जाएगा। नोडल अधिकारी भूसा प्रबंधन के लिए प्रयास करेंगे। मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने नोडल अधिकारियों को प्रदेश के विभिन्न जिलों में निरीक्षण का आदेश देते हुए कमियों को दूर करने के निर्देश दिये हैं। मालूम हो कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछले दिनों पशु पालन विभाग की बैठक में छुट्टा गोवंश को लेकर अधिकारियों को जमकर फटकार लगाई थी। बैठक में उन्होंने अधिकारियों को छुट्टा गोवंश को गो आश्रय स्थल पर शिफ्ट करने, कुपोषित गोवंश की पहचान कर उनकी विशेष निगरानी करने और भूसा प्रबंधन एवं आश्रय स्थलों में शत-प्रतिशत ईयर टैगिंग कराने के निर्देश दिये थे।

आश्रय स्थलों पर ईयर टैगिंग का काम जल्द हो पूरा
प्रदेश के विभिन्न जिलों में निरीक्षण को गये नोडल अधिकारियों ने मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र को बैठक में बताया कि प्रदेश के कुछ गौ आश्रय स्थलों पर शेड, भूसा गोदाम, विद्युत कनेक्शन, सोलर लाइट, सोलर पंप और छायादार पौधे नहीं हैं। इस पर मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने जनपद के सीडीओ को फटकार लगाते हुए ऐसे गौ आश्रय स्थलों का निरीक्षण कर जल्द से जल्द कमियों को दूर करने का आदेश दिया। इसके साथ ही भूसा प्रबंधन के लिए भूसे की खरीद के लिए निविदा निकाल कर गेहूं की कटाई के साथ भूसे की खरीद शत- प्रतिशत करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि भूसे की खरीद शत-प्रतिशत हो इसके लिये इसे पंचायत स्तर पर किया जाए। उन्होंने इसके प्रबंधन की भी उचित व्यवस्था करने को कहा। वहीं चारागाह की भूमि पर हरा चारा एवं गोवंश को दाना, चूनी और चोकर की व्यवस्था की जाए। इसके अलावा जिन आश्रय स्थलों पर ईयर टैगिंग का काम अधूरा है उसे जल्द से जल्द पूरा कराने के निर्देश दिये। प्रदेश के सभी गोवंश आश्रय स्थलों की विशेष निगरानी के लिए नोडल अधिकारियों को भी नियुक्त किया गया है।

भूसा संरक्षण के लिए चलाया जाएगा अभियान
मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि एसएफसी पूलिंग के लिए सीडीओ, डीपीआरओ एवं बीडीओ एक साथ नियमित बैठक करें। भूसा संरक्षण के लिए प्रदेश भर में अभियान चलाया जाएगा, जिसमें दान से भूसा बैंक एक माह में तैयार किया जाएगा। बैठक में गर्मी से गोवंश को बचाने के लिए भी दिशा निर्देश दिये गये। अब गौ आश्रय पोर्टल पर समुचित डाटा फीडिंग एवं निरीक्षण की ऑनलाइन रिपोर्ट सुनिश्चित की जाएगी। वहीं लखनऊ, देवरिया, कन्नौज, हाथरस, बागपत, हमीरपुर एवं सोनभद्र में मिले कुपोषित गोवंश पर विशेष नजर रखने को कहा गया है।

JOIN

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

For You
- FOLLOW OUR GOOGLE NEWS FEDS -spot_img
डा राम मनोहर लोहिया अवध विश्व विश्वविद्यालय अयोध्या , परीक्षा समय सारणी
spot_img

क्या राहुल गांधी की संसद सदस्यता रद्द होने से कांग्रेस को फायदा हो सकता है?

View Results

Loading ... Loading ...
Latest news
प्रभु श्रीरामलला सरकार के शुभ श्रृंगार के अलौकिक दर्शन का लाभ उठाएं राम कथा सुखदाई साधों, राम कथा सुखदाई……. दीपोत्सव 2022 श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने फोटो के साथ बताई राम मंदिर निर्माण की स्थिति