Sunday, April 21, 2024
spot_img

योगी सरकार का प्रयास, सूखे की छाप से मिली इस गर्मी हमीरपुर के गांव को मुक्ति

54 / 100

योगी सरकार का प्रयास, सूखे की छाप से मिली इस गर्मी हमीरपुर के गांव को मुक्ति

जल जीवन मिशन की सौर ऊर्जा परियोजना से मिला उमनिया और सैना जैसे कई गांव को स्वच्छ पेयजल

जनपद मुख्यालय से 85 किमी दूर इन गांवों में बरसात के बाद काफी नीचे चल जाता था जल स्तर

योगी सरकार की देखरेख में इस गर्मी गोहांड, राठ, मुस्कुरा एवं सरीला ब्लॉक के गांवों में पानी के लिए नहीं मच रही त्राहि-त्रहि

नमामि गंगे एवं ग्रामीण जलापूर्ति विभाग गांव-गांव में घर-घर तक पहुंचा रहा स्वच्छ पेयजल

लखनऊ/हमीरपुर : योगी सरकार के प्रयास से बुंदेलखंड के सूखाग्रस्त इलाकों में आने वाले हमीरपुर के गोहांड, राठ, मुस्कुरा एवं सरीला ब्लॉक के गांव में जल जीवन मिशन की योजना नई उम्मीद लेकर आई है। इन गांव के 40 किमी परिक्षेत्र तक नदी का कोई नामोनिशान नहीं है। यहां बरसात होने के कुछ समय बाद ही भूजल स्तर नीचे गिर जाता है। पीने के पानी के लिए समस्याओं का सामना करना मजबूरी बनता है। ऐसी कठिन परिस्थितियों वाले हमीरपुर जिले के गांव में हर घर नल से जल पहुंचने लगा है। योगी सरकार की देखरेख में नमामि गंगे एवं ग्रामीण जलापूर्ति विभाग की सौर ऊर्जा से संचालित परियोजनाओं से स्थापित की गई पानी टंकियों से पेयजल की सप्लाई की जाने लगी है।

गर्मियां आते ही पानी के लिये मचने वाला त्राहि माम। सूखाग्रस्‍त इलाके की छाप। दूर-दूर तक कोई नदी नहीं। तालाबों का प्रचंड गर्मी में सूख जाना। पीने के पानी के लिए कुंए ही एक मात्र स्त्रोत। उस पर भी पानी लेने के लिए होड़। कभी-कभी पानी के लिए होने वाली लड़ाइयां। बूंद-बूंद पानी के लिए मशक्‍कत हमीरपुर के राठ ब्‍लाक के उमनिया जैसे अनेक गांव की कहानी हुआ करती थी। गोहाण्‍ड, मुस्कुरा एवं सरीला ब्लॉक के गांव भी इसी बदहाली से जूझ रहे थे। ऐसे में वर्ष 2019 में प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी की महत्‍वाकांक्षी योजना जल जीवन मिशन की घोषणा हुई तो उसका लाभ उत्‍तर प्रदेश की योगी आदित्‍यनाथ सरकार ने गांव-गांव तक पहुंचाने का संकल्‍प लिया। खासकर बुंदेलखंड और विंध्‍य के नौ जिलों को सबसे पहले इस योजना का लाभ देने के लिए चुना गया। यही वो समय था, जब बदलाव की चली बयार हमीरपुर के लोगों के लिए उम्मीदों में बदली गई। योगी सरकार के निरंतर योजनाओं के नजर रखने और योजनाओं को तेजी से पूरा कराए जाने पर दिये जा रहे जोर का ही परिणाम है कि सूखाग्रस्‍त कहलाने वाले हमीरपुर जिले के गांवों में घर-घर तक पेयजल पहुंचने के रास्‍ते खुल गए हैं। गांव के लोगों को यहां बनाई गई परियोजनाओं में पम्‍प ऑपरेटर, मोटर मैकेनिक, फि‍टर, इलेक्‍ट्रीशियन और मेसन के रूप में रोजगार भी मिलने लगा है।

40 किमी तक नहीं कोई नदी
ग्रामीण बताते हैं कि खासकर हमीरपुर में ऐसे कई गांव हैं, जिनके 40 किमी के दायरे में कोई नदी नहीं है। इसी समस्‍या से जूझने वाले लोगों के लिए टयूबवेल संचालित सोलर बेस भूजल परियोजनाओं को शुरू किया गया। राठ ब्‍लाक के उमनिया ग्राम पंचायत में सोलर से संचालित 50 हजार लीटर की पानी की टंकी बनाई गई। यहां सोलर से संचालित मोटर से 250 लीटर प्रति मिनट पानी की टंकी भरी जाती है। योगी सरकार के प्रयास के कारण इस टंकी से दो राजस्‍व गांवों उमनिया और चुरवा गांव तक पाइपलाइन का जाल बिछाकर नल कनेक्‍शन दिये गये। इसी तरह के प्रयास अन्य गांव में भी किये गये। योजना पर लगाए गये सोलर प्‍लांट के माध्‍यम से दोपहर में साढ़े छह घंटे मिलने वाली सौर उर्जा से सुबह और शाम पानी की सप्‍लाई देना शुरू किया गया। यहां सरकारी स्‍कूल में भी स्‍टैण्‍ड पोस्‍ट बनाए गये, जिससे छात्रों को भी स्‍वच्‍छ पेयजल मिलने लगा। गांव में रहने वाले लोग अब कहने लगे हैं कि हर घर जल योजना से उन्हें शुद्ध पेयजल प्राप्त हो रहा है। अब उनको पानी के लिए हैण्‍डपम्‍प और कुंओं पर नहीं जाना पड़ रहा है। इन गांव में घरों तक स्‍वच्‍छ पेयजल पहुंचने लगा है। इस गर्मी पीने के पानी की सारी समस्‍याएं इनके लिये खत्‍म हो गई हैं। इस तरह की परियोजना हमीरपुर के कई अन्य गांवों में भी जन-जन तक पेयजल पहुंचा रही है।

इकबाल मोहम्मद के बटन ऑन करने के साथ कई गांव के लिये शुरू हो जाती पानी सप्लाई
उमनिया गांव के निवासी इकबाल मोहम्‍मद को उनके ही गांव में जल जीवन मिशन की परियोजना में रोजगार मिल गया है। मजदूरी करके किसी तरह घर का खर्चा चलाने वाले इकबाल रोजगार मिलने से काफी खुश हैं। इकबाल मोहम्‍मद का काम पम्‍प का संचालन करना है। सुबह और शाम उनके पानी की टंकी पर लगे बटन को दबाने के साथ ही गांव के घर-घर तक पानी की धार पहुंचना शुरू हो जाती है। कहते हैं कि घर में जल पहुंचने के साथ उनको योगी सरकार के कारण रोजगार भी मिल गया है।

मील का पत्थर साबित होने जा रही हर घर जल योजना
प्‍यार खां बताते हैं कि नमामि गंगे एवं ग्रामीण जलापूर्ति विभाग की पेयजल परियोजना बुन्देलखंड के समस्याग्रस्त गांवों के लिए मील का पत्थर साबित होने वाली है। दशकों से पानी की किल्लत झेल रहे लाखों लोगों को राहत मिलने लगी है। कभी मौदहा क्षेत्र के बीहड़ के दर्जनों गांवों में पानी के लिए लोगों में त्राहि-त्राहि मचती थी। नरेंद्र मोदी और योगी आदित्यनाथ के कारण अब जल जीवन मिशन की योजना से बड़ा बदलाव आया है।

JOIN

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

For You
- FOLLOW OUR GOOGLE NEWS FEDS -spot_img
डा राम मनोहर लोहिया अवध विश्व विश्वविद्यालय अयोध्या , परीक्षा समय सारणी
spot_img

क्या राहुल गांधी की संसद सदस्यता रद्द होने से कांग्रेस को फायदा हो सकता है?

View Results

Loading ... Loading ...
Latest news
प्रभु श्रीरामलला सरकार के शुभ श्रृंगार के अलौकिक दर्शन का लाभ उठाएं राम कथा सुखदाई साधों, राम कथा सुखदाई……. दीपोत्सव 2022 श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने फोटो के साथ बताई राम मंदिर निर्माण की स्थिति