Sunday, February 25, 2024
spot_img

देवघर में होगा G20 शिखर सम्मेलन, 15 देशों के प्रतिनिधि लेंगे भाग

48 / 100

देवघर में होगा G20 शिखर सम्मेलन, 15 देशों के प्रतिनिधि लेंगे भाग


भारत की G20 अध्यक्षता के दौरान G20 बैठकों का दौर जारी है। इसी क्रम में मई के पहले सप्ताह में  देवघर में G20 की बैठक आयोजित की जाएगी। इस दौरान सम्मेलन में मैहर गार्डन व जसीडीह सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क में कई इवेंट होंगे साथ ही संथाल परगना में आईटी सेक्टर में निवेश पर भी प्रेजेंटेशन होगा। इसके अलावा  डिजिटल इंडिया के तहत कैसे ग्रास रूट पर बिजनेस व सर्विस के साथ रोजगार के अवसर पैदा हो इस पर विचार किया जाएगा। इसके अलावा  देवघर से देशभर में हवाई मार्ग व रेल मार्ग की कनेक्टिविटी की सुविधा व पर्यटन उद्योग पर भी चर्चा संभव है।

अमेरिका, इंग्लैंड और यूरोप समेत कई देश ले रहे भाग

बता दें कि देवघर में होने वाले इस G20 सम्मेलन की थीम डिजिटल इंडिया होगी और इस सम्मेलन में 15 देशों के डेलीगेट्स हिस्सा लेंगे। जिसमें अमेरिका, इंग्लैंड, फ्रांस, जर्मनी, स्पेन समेत यूरोप के अन्य देशों के प्रतिनिधि भी हिस्सा लेंगे। हाल ही में देवघर में G20 सम्मेलन को लेकर दिल्ली में सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने इसकी विभागीय तैयारी की समीक्षा की गई। बैठक में देवघर में सम्मेलन के दौरान होने वाले इवेंट का प्रेजेंटेशन भी किया गया।

सौंदर्यीकरण पर विशेष जोर

G20 बैठक को लेकर सुरक्षा के मद्देनजर जहां चाक-चौबंद इंतजाम किए गए हैं तो वहीं ट्रैफिक की भी मुकम्मल व्यवस्था की जा रही है। शहर को साफ सुथरा और अतिक्रमण मुक्त बनाए रखने के लिए एक विशेष टीम का गठन किया गया है। इस के अलावा मैहर गार्डन व जसीडीह सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क जाने वाली सड़क का सौंदर्यीकरण व रंग-रोगन कराया जा रहा है।

देवघर का अपना धार्मिक महत्व भी है

झारखंड जिला का शहर देवघर पवित्र हिंदू तीर्थो में से एक है। यहां साल भर तीर्थयात्रियों का आना जाना लगा रहता है। यह शहर हिंदुओं का प्रसिद्ध तीर्थ-स्थल है। यहां भगवान शिव का एक अत्यंत प्राचीन मंदिर स्थित है। ऐसे में G20 के प्रतिनिधि देवघर आएंगे तो जाहिर है वह लोग भी शिव नगरी के इतिहास और उसकी परंपरा और भी अच्छे से समझ पाएंगे। साथ ही G20 प्रतिनिधियों के आने से पर्यटन को भी विशेष बढ़ावा मिलेगा।

पूरे देश की जनभागीदारी होगी सुनिश्चित

वसुधैव कुटुम्बकम’ – ‘वन अर्थ वन फैमिली वन फ्यूचर’ की अपनी G20 प्रेसीडेंसी थीम से प्रेरणा लेते हुए, भारत 32 विभिन्न कार्यक्षेत्रों में 50 से अधिक शहरों में 200 से अधिक बैठकों की मेजबानी करेगा, और G20 प्रतिनिधियों और मेहमानों की पेशकश करने का अवसर होगा। यह भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत की एक झलक और उन्हें एक अद्वितीय भारतीय अनुभव प्रदान करना। भारत जैसे बड़े और विविधता वाले देश में भारत की G20 अध्यक्षता में सभी की भागीदारी सुनिश्चित हो सके इसके लिए पूरे देश में अलग-अलग स्थानों में G20 की लगभग 200 से अधिक बैठकें आयोजित करने का एक मकसद भारत की अमूल्य संस्कृति और धरोहर से भी विश्व को अवगत करवाना है। वहीं भारत को एक पर्यटन बाजार के रूप में विकसित करने के लिए भी ये पूरा कार्यक्रम बेहद महत्वपूर्ण होगा।

JOIN

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

For You
- FOLLOW OUR GOOGLE NEWS FEDS -spot_img
डा राम मनोहर लोहिया अवध विश्व विश्वविद्यालय अयोध्या , परीक्षा समय सारणी
spot_img

क्या राहुल गांधी की संसद सदस्यता रद्द होने से कांग्रेस को फायदा हो सकता है?

View Results

Loading ... Loading ...
Latest news
प्रभु श्रीरामलला सरकार के शुभ श्रृंगार के अलौकिक दर्शन का लाभ उठाएं राम कथा सुखदाई साधों, राम कथा सुखदाई……. दीपोत्सव 2022 श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने फोटो के साथ बताई राम मंदिर निर्माण की स्थिति