AYODHYAलाइव

Saturday, February 4, 2023

मनरेगा के तहत नियोजित श्रमिकों की उपस्थिति अब होगी डिजिटली दर्ज

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
मनरेगा के तहत नियोजित श्रमिकों की उपस्थिति अब होगी डिजिटली दर्ज

Listen

Advertisements

मनरेगा के तहत नियोजित श्रमिकों की उपस्थिति अब होगी डिजिटली दर्ज

सरकार मनरेगा को कर रही और पारदर्शी, अब डिजिटल रूप से दर्ज होगी अटेंडेंस

देश के हर सरकारी विभाग से भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए केंद्र सरकार ने कई महत्वपूर्ण कदम उठाएं। सरकार के उन फैसलों में डिजिटल शक्ति का बड़ा रोल है। इसी वजह से आज DBT से जरूरतमंद को पैसे ट्रांसफर करना हो या किसान सम्मान निधि या पीएम गरीब आवास योजना के तहत मिलने वाली सब्सिडी राशि। इन क्रांतिकारी फैसले के बाद अब एक और सेक्टर में डिजिटल इंडिया की एंट्री हो गई है, जिससे गरीबों, श्रमिकों और मेहनतकश मजबूदों के हक का पैसा कोई बिचौलिया या ठेकेदार न खा पाए। जी हां, हम बात कर रहे हैं महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना यानि मनरेगा की।

अब डिजिटल रूप से दर्ज होगी अटेंडेंस

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत कार्यरत श्रमिकों की अटेंडेंस अब डिजिटल रूप से दर्ज होगी। केंद्र सरकार ने 1 जनवरी, 2023 से इसे लागू कर दिया है। यानी अब मनरेगा में काम करने वाले श्रमिकों की उपस्थिति ऑनलाइन दर्ज होगी। निश्चित रूप से सरकार के इस कदम से इस योजना में और अधिक पारदर्शिता आएगी। मंत्रालय ने आदेश में कहा है कि डिजिटल रूप से उपस्थिति दर्ज करना अब सभी मनरेगा कार्यस्थलों के लिए अनिवार्य है, चाहे कितने भी कर्मचारी लगे हों। यह नियम 1 जनवरी, 2023 से लागू हो जाएगा।

क्यों लिया गया फैसला?

अब जान लेते हैं, डिजिटल अटेंडेंस का फैसला क्यों लिया गया…दरअसल, अक्सर मनरेगा के तहत फर्जी खातों का मामला सामने आता रहा है, जो बिचौलियों और अधिकारियों के लिए भ्रष्टाचार का स्रोत बन गया है। ऐसे में केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय ने भ्रष्टाचार, सही से कार्य न कराने, काम के दोहराव, धन के दुरुपयोग के आरोपों की वजह से इसे अनिवार्य कर दिया है, जिससे की धन का दुरुपयोग भी न हो, काम करने वाले श्रमिकों को पैसे समय पर मिलता रहे।

2021 में हुई थी पायलट चरण की शुरुआत

दरअसल, सरकार ने योजना को और अधिक पारदर्शी बनाने के उद्देश्य से मई 2021 में नेशनल मोबाइल मॉनिटरिंग सिस्टम नामक एक मोबाइल एप्लीकेशन यानि NMMS ऐप जारी किया था। केंद्र सरकार ने ऐप के माध्यम से अटेंडेंस दर्ज करने के लिए पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया था। 16 मई 2022 से 20 या उससे अधिक श्रमिक जहां कार्य कर रहे हैं..उन सभी कार्यस्थलों के लिए ऐप के माध्यम से अटेंडेंस दर्ज करना अनिवार्य कर दिया गया था। मनरेगा के संबंध में जारी नवीनतम आदेश में डिजिटल अटेंडेंस दर्ज करना अब सभी के लिए अनिवार्य कर दिया गया है है, चाहे कार्यस्थल पर कितने भी कर्मचारी लगे हुए हों।

95% से अधिक का हुआ मनरेगा भुगतान

सरकार के अनुसार मस्टर रोल बंद होने के सोलहवें दिन के बाद देरी के लिए मजदूरी चाहने वाले प्रतिदिन अवैतनिक मजदूरी के 0.05% की दर से मुआवजे का भुगतान प्राप्त करने के हकदार होंगे। बता दें कि मस्टर रोल एक इन्वेंटरी रजिस्टर है। कामगारों की हाजिरी का एक विशेषकर रिकॉर्ड है, जो कि खास कार्य स्थल और एक निश्चित समय अवधि के लिए होता है। मस्टर रोल का इस्तेमाल कार्यक्रम अधिकारी से वेतन भुगतान के लिए, धनराशि मांगने के लिए, रसीद के रूप में किया जाता है। वहीं चालू वित्त वर्ष (18.12.2022 तक) में 15 दिनों के भीतर उत्पन्न भुगतान का प्रतिशत 95.55% है। राज्यसभा में केन्द्रीय ग्रामीण विकास राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने कहा कि देय होने की तिथि से पंद्रह दिनों की अवधि के बाद मुआवजे के भुगतान में किसी भी देरी पर उसी तरह विचार किया जाएगा, जिस तरह से मजदूरी के भुगतान में देरी की जाती है। भुगतान में देरी के लिए जिम्मेदार अधिकारियों या एजेंसियों से मुआवजे की राशि वसूल करेगी।

सरकार ने उठाए कई महत्वपूर्ण कदम

केंद्र सरकार ने महात्मा गांधी नरेगा के तहत श्रमिकों को समय पर मजदूरी का भुगतान सुनिश्चित करने के लिए कई कदम उठाए हैं। आकड़ों के अनुसार वित्त वर्ष 2022-2023 में पांच लाख 9 हजार लोगों ने इस योजना के तहत रोजगार की मांग की, जिसमें सरकार ने त्वरित कर्रवाई करते हुए 5 लाख 8 हजार लोगों रोजगार उपलब्ध करा दिया है। सरकार ने हाल ही में 27 राज्यों और 3 केंद्र शासित प्रदेशों में राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक फंड प्रबंधन प्रणाली (Ne-FMS) का विस्तार भी किया है।

क्या है मनरेगा योजना

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (महात्मा गांधी नरेगा) एक मांग आधारित मजदूरी रोजगार कार्यक्रम है, जो देश के ग्रामीण क्षेत्रों में परिवारों की आजीविका सुरक्षा को बढ़ाने के लिए कम से कम एक सौ दिनों का गारंटीकृत रोजगार प्रदान करता है। प्रत्येक परिवार के लिए वित्तीय वर्ष जिसके वयस्क सदस्य स्वेच्छा से अकुशल शारीरिक कार्य करते हैं। इसके अतिरिक्त, सूखा, प्राकृतिक आपदा अधिसूचित ग्रामीण क्षेत्रों में एक वित्तीय वर्ष में 50 दिनों के अतिरिक्त अकुशल मजदूरी रोजगार का प्रावधान है।

मनरेगा डिजिटल अटेंडेस के रास्ते भ्रष्टाचार वाले शिष्टाचार पर केंद्र का एक और प्रहार

विनोबा भावे ने एकबार कहा था कि भ्रष्टाचार तो शिष्टाचार हो गया है। जब सभी लोग ऐसा करने लगें तो यह भ्रष्टाचार नहीं शिष्टाचार हो जाता है। भ्रष्टाचार के विरोध को लेकर विनोबा भावे के इस विचार की झलक वर्तमान केंद्र सरकार की कार्यप्रणाली में साफतौर पर मिलती है, जो किसी कीमत पर भ्रष्टाचार को बर्दाश्त न करने की नीति पर काम कर रही है

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) के तहत नियोजित श्रमिकों की उपस्थिति को डिजिटली दर्ज करने को लेकर केंद्र सरकार ने आदेश दिया है। यह उपस्थिति 1 जनवरी, 2023 से दर्ज होगी। सरकार के इस आदेश का मतलब है कि अब मनरेगा में काम करने वाले श्रमिकों की उपस्थिति ऑनलाइन दर्ज होगी। सरकार के इस फैसले से इस योजना में और अधिक पारदर्शिता आएगी।

सभी कार्यस्थलों के लिए अनिवार्य

जानकारी के लिए बता दूं कि 16 मई, 2022 से उन कार्यस्थलों के लिए ऐप के माध्यम से उपस्थिति दर्ज करना अनिवार्य कर दिया था। हालांकि यह 20 या अधिक श्रमिकों वाले कार्यस्थलों के लिए ही अनिवार्य था। लेकिन केंद्र सरकार के नवीनतम आदेश में यह साफ है कि अब सभी कार्यस्थलों के लिए यह अनिवार्य है। चाहे कर्मचारियों की संख्या कितनी भी हो। मनरेगा के डिजिटल उपस्थिति के माध्यम से केंद्र सरकार ने एक बार फिर भ्रष्टाचार पर बड़ा प्रहार किया है, क्योंकि मनरेगा में कई तरह की शिकायतें समय-समय पर सुनने को मिलती रहती हैं। किसी राज्य में बिना काम किए श्रमिकों के खाते में रकम आ रही थी तो कहीं कोई और मामला था। केंद्र सरकार की इन सब शिकायतों पर नजर थी और यही कारण है कि उसने मनरेगा को लेकर ये बड़ा फैसला लिया। वैसे पिछले आठ साल में देश में भ्रष्टाचार को लेकर केंद्र सरकार का जीरो टॉलरेंस से ये संदेश गया है कि भ्रष्टाचार को किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। चलिए समझते हैं आठ साल पहले वर्तमान केंद्र सरकार ने भ्रष्टाचार को लेकर कार्रवाई कहां से शुरू किया और आज मनरेगा के डिजिटल अटेंडेंस के माध्यम से भ्रष्टाचार को लेकर इस सरकार की क्या सोच है।

8 साल पहले और अब

लगभग आठ साल पहले भ्रष्टाचार ने व्यापक स्तर पर जन-जीवन को प्रभावित कर रखा था। नौकरशाही हो या राजनीति, व्यापार हो या समाज या धर्म, यहां तक कि व्यक्तिगत, पारिवारिक जीवन में भी भ्रष्टाचार फैला हुआ था। समस्या यह थी कि जबतक जन-जीवन से भ्रष्टाचार दूर नहीं होता, तबतक न तो देश का विकास हो पा रहा था और न ही व्यक्ति का। 8 साल पहले हर गली-चौराहे पर यही चर्चा आम थी कि भ्रष्टाचार को दूर करने के लिए सरकार को कड़े कदम उठाने चाहिए लेकिन जब सरकार के मंत्रियों पर ही घोटाले के आरोप लगे हों तो ऐसे में सवाल किससे और सजा किसे और कौन दे। सच्चाई यह थी कि जब सरकारी मशीनरी ही इससे प्रभावित थी तो कानून कोई कारगर उपाय कैसे लागू करता।

2014 में नई सरकार सत्ता में आई और उसने महसूस किया कि भ्रष्टाचार समाज के चरित्र और स्वभाव से जुड़ी हुआ है। इसके लिए सर्वप्रथम समाज का नेतृत्व करनेवाले लोग जैसे नेता, अधिकारी, धर्म गुरुओं को अपने आदर्श चरित्र का उदाहरण जन सामान्य के समक्ष रखना चाहिए। इन लोगों के आचरण का ही अनुकरण समाज के अन्य लोग करते हैं। महात्मा गांधी ने भी जैसा समाज बनाना चाहा, उसके अनुसार पहले स्वयं को बनाया।

कालेधन पर बड़ी कार्रवाई

जब पीए मोदी ने 2014 में केंद्र की सत्ता संभाली और उसके बाद से ही भ्रष्टाचार पर समय-समय पर लगातार प्रहार करते रहे हैं। उन्होंने सत्ता संभालते ही कहा था कि उनकी सरकार भ्रष्टाचार और कालेधन पर कार्रवाई करेगी। पीएम की ये बातें तब लोगों को समझ में आने लगीं जब उन्होंने भ्रष्टाचार के दीमक को खत्म करने के लिए कई बड़े और कड़े कदम उठाए, जिन्में नोटबंदी प्रमुख था। और सबसे बड़ी बात कि पीएम के इस निर्णय का जनता ने दिल से स्वागत किया।

यूपीआई से डिजिटल पेमेंट्स में क्रांति

नोटबंदी के बाद पीएम ने यूपीआई से डिजिटल पेमेंट्स की बात कही, जिससे अर्थव्यवस्था में पारदर्शिता आई। कोविड महामारी के बाद इसको अपनाने की में गति में और ज्यादा तेजी आई। जेफरीज की एक रिपोर्ट के अनुसार, वित्त वर्ष 2022 में देश में खुदरा डिजिटल भुगतानों में यूपीआई की हिस्सेदारी 50 प्रतिशत है। बड़ी बात यह है कि डेबिट व क्रेडिट कार्ड से होने वाले लेन-देन की तुलना में इससे की गई लेनदेन लगभग 4.5 गुना अधिक है। आज भारत में ही नहीं, विश्व के कई देशों में इस पेमेंट सिस्टम का उपयोग हो रहा है, जो देश को गौरवान्वित कर रहा है।

भ्रष्टाचारियों पर गौरवगान बर्दाश्त नहीं

पीएम ने कहा था कि हमने देखा है, जेल की सजा होने के बावजूद भी, भ्रष्टाचार साबित होने के बावजूद भी, कई बार भ्रष्टाचारियों का गौरवगान किया जाता है। ईमानदारी का ठेका लेकर घूमने वाले लोग, भ्रष्टाचारी के साथ फोटो खिंचवाते हैं। उन्हें शर्म नहीं आती है। ये स्थिति भारतीय समाज के लिए ठीक नहीं है। भ्रष्टाचार को लेकर पीएम की दो टूक से साफ है कि पीएम देश के विकास के लिए क्या सोचते हैं इस मसले पर।

सोच बदली कि रिश्वत के बिना भी काम संभव

भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने वाली संस्थाओं को वर्तमान केंद्र सरकार ने बिना किसी हस्तक्षेप के काम करने की छूट दी। मंत्री हों या अफसर या फिर जनता, केंद्र सरकार की कार्य प्रणाली से सभी को यह मैसेज गया कि भ्रष्टाचार किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। पीएम का साफ संदेश है कि भ्रष्टाचार करने वाला चाहे कितना ही बड़ा आदमी हो, उसके खिलाफ कार्रवाई करनी है। यही कारण है कि पहले भी और हाल के दिनों में भी भ्रष्टाचार को अंजाम देनेवाले लोगों पर प्रवर्तन निदेशालय अर्थात ED ने बड़ी कार्रवाई शुरू की। सरकार के इस अडिग फैसले का असर यह हुआ कि भ्रष्टाचारी गलत काम करने से डरने लगे और आम आदमी में सरकार को लेकर यह मैसेज गया कि उनका काम बिना रिश्वत दिए भी हो सकता है।

लालकिले से ऐलान

पीएम मोदी ने इस बार 15 अगस्त को लालकिले की प्राचीर से एक निर्णायक ऐलान किया। वह ऐलान था भ्रष्टाचार और परिवारवाद के खिलाफ एक निर्णायक जंग का। पीएम मोदी देश के विकास के लिए भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद, परिवारवाद, जनता के पैसे की लूट, आतंकवाद को खतरनाक मानते हैं। यही कारण है कि सीमा पार की जनता और हुक्मरान भी पीएम की भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की नीतियों की सराहना कर रहे हैं। पीएम जब कहते हैं कि हमारी कोशिश है कि जिन्होंने देश को लूटा है, उनको लौटाना भी पड़े, हम इसकी कोशिश कर रहे हैं तो देश को लेकर प्रधान सेवक की चिंता साफ झलकती है। पीएम मोदी ने लोगों से अपील की, ‘मेरे 130 करोड़ देशवासी आप मुझे आशीर्वाद दीजिए, आप मेरा साथ दीजिए, मैं आज आपसे साथ मांगने आया हूं, आपका सहयोग मांगने आया हूं, ताकि मैं इस लड़ाई को लड़ सकूं और इस लड़ाई को देश जीत पाए।’ पीएम का ये आह्वान देश के विकास और उसके भविष्य के लिए बहुत मायने रखता है।

गलत हाथों में जाने से 20 लाख करोड़ बचा

पिछले आठ वर्षों में DBT अर्थात प्रत्यक्ष लाभ अंतरण के द्वारा मोबाइल और आधार सहित अन्य आधुनिक तकनीक का उपयोग करते हुए 20 लाख करोड़ रुपये को गलत हाथों में जाने से बचाया गया। प्रत्‍यक्ष लाभ अंतरण के अंतर्गत वार्षिक नकद राशि (2019-20) में 178.13 करोड़ रुपये जारी किया गया। प्रत्‍यक्ष लाभ अंतरण के उद्देश्य हैं- अधिक मात्रा में खाद्यान्‍नों की वास्‍तविक आवाजाही को कम करना, आहार में विविधता को बढ़ाना, लीकेज को कम करना, अपनी खपत का चुनाव करने के लिए लाभार्थियों को अधिक स्‍वायत्‍तता प्रदान करना, बेहतर लक्ष्‍य की सुविधा प्रदान करना, वित्‍तीय समावेशन को बढ़ाना।

भ्रष्टाचारी अफसरों पर गिरी गाज

भ्रष्टाचारी अफसरों (27) से देश को बचाने के लिए उन्हें जबरन रिटायरमेंट देकर बाहर किया गया। आईपीएस और आईआरएस जैसे अफसरों पर यह कार्रवाई लगातार जारी है ताकि भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाया जा सके और पैसा सही हाथों तक पहुंच सके। अनुमानित है कि केंद्र सरकार की सख्ती के कारण प्रवर्तन निदेशालय ने 8 साल में लगभग एक लाख करोड़ रुपये जब्त किए हैं।

इतना ही नहीं, देशभर में व्यक्ति से लेकर बड़ी कंपनियों पर पड़नेवाले छापे से सैकड़ों करोड़ रुपये जब्त किए गए और ये कार्रवाइयां आज भी जारी हैं और आगे भी जारी रहेंगी, क्योंकि ‘न खाता हूं न खाने दूंगा’ के नारे के साथ पीएम मोदी ने भ्रष्टाचार पर कड़ा प्रहार किया है। केंद्र सरकार ने हर मोर्चे पर भ्रष्टाचार कम करने का पूरा प्रयास किया है और अब इसका असर भी दिखने लगा है। मनरेगा का डिजिटल अटेंडेंस इस प्रयास की एक अगली कड़ी है और इस कड़ी में सरकार के इस कदम को भ्रष्टाचार पर किए जाने वाले एक बड़े प्रहार के रूप में देखा जाना चाहिए।

ALSO READ

चार साल में होगा ग्रेजुएशन,UGC ने जारी किया करीकुलम

Incredible Benefits & Side-Effects Of Peas

Benefits, Uses and Disadvantages of Ashwagandha

BHU’S HOSPITAL SIR SUNDERLAL HOSPITAL CONDUCTS FIRST PEDIATRIC SURGERY USING 4K METHOD

BHU’S HOSPITAL SIR SUNDERLAL HOSPITAL CONDUCTS FIRST PEDIATRIC SURGERY USING 4K METHOD

AYODHYALIVE BHU : Funds will not be an obstacle for ensuring high quality teaching and research: Prof. Sudhir Jain 

काशी तमिल संगमम् में जारी है सांस्कृतिक रंगों की बहार, कथक, पेरियामलम, कोलट्टम एवं कुमयनुअट्टम की प्रस्तुतियों से सम्मोहित हुए दर्शक

अयोध्यालाइव : अयोध्या की सेवा में है डबल इंजन की सरकार : सीएम

अयोध्यालाइव : राम की संस्कृति जहां भी गई, मानवता के कल्याण का मार्ग प्रशस्त करती रहीः सीएम योगी

अयोध्यालाइव : रामनगरी को विश्व स्तरीय पर्यटन नगरी बनाने के लिए समय से कार्य करें अफसर: सीएम योगी

अयोध्यालाइव : बुलेट ट्रेन की गति से विकास कराती है ट्रिपल इंजन की सरकार : सीएम योगी

अयोध्यालाइव : कुलपति ने किया लैब्स का निरीक्षण

अयोध्यालाइव : सीएम योगी ने किया रामलला और हनुमानगढ़ी का दर्शन पूजन

अयोध्यालाइव : मुख्यमंत्री योगी ने किया अयोध्या विजन 2047 के कार्यो की समीक्षा

अयोध्यालाइव : दवाओं के साथ लें सात बार आहार, मिलेगी टीबी से मुक्ति  

प्रभु राम के आशीर्वाद से हो रहे त्रेता की अयोध्या के दर्शनः पीएम मोदी

: https://www.ayodhyalive.com/anganwadi-center…ment-of-children/ ‎

15 लाख 76 हजार दीपों का प्रज्जवलन कर बना वल्र्ड रिकार्ड

आयुर्वेद कैसे काम करता है – क्या है तीन दोष ?

दुनिया के इन देशों में भी भारत की तरह मनाई जाती है दीपावली

सम्पूर्ण भोजन के साथ अपने बच्चे का पूर्ण विकास सुनिश्चित करें : आचार्य डॉक्टर आरपी पांडे 

वजन कम करने में कारगर हे ये आयुर्वेदिक औषधियाँ :आचार्य डॉक्टर आरपी पांडे

सोने से पहले पैरों की मालिश करेंगे तो होंगें ये लाभ: आचार्य डॉक्टर आरपी पांडे

अयोध्या में श्री राम मंदिर तक जाने वाली सड़क चौड़ीकरण के लिए मकानों और दुकानों का ध्वस्तीकरण शुरू

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने राम जन्मभूमि परिसर के विकास की योजनाओं में किया बड़ा बदलाव

नों को आकांक्षी होने के साथ साथ स्वयं को करना होगा तैयार

राष्ट्रीय शिक्षा नीति का उद्देश्य शिक्षा को 21वीं सदी के आधुनिक विचारों से जोड़ना : PM मोदी

प्रवेश सम्बधित समस्त जानकारी विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है।

घर की छत पर सोलर पैनल लगाने के लिए मिल रही सब्सिडी, बिजली बिल का झंझट खत्म

बीएचयू : कालाजार को खत्म करने के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में महत्वपूर्ण खोज

नेपाल के लोगों का मातृत्व डीएनए भारत और तिब्बत के साथ सम्बंधितः सीसीएमबी व बीएचयू का संयुक्त शोध

ADVERTISEMENT
Advertisements

Related News

Leave a Reply

JOIN TELEGRAM AYODHYALIVE

Currently Playing
Coming Soon
देश का सबसे प्रभावशाली प्रधानमंत्री कौन रहा है?
देश का सबसे प्रभावशाली प्रधानमंत्री कौन रहा है?
देश का सबसे प्रभावशाली प्रधानमंत्री कौन रहा है?
February 2023
M T W T F S S
 12345
6789101112
13141516171819
20212223242526
2728  
Currently Playing
Advertisements

OUR SOCIAL MEDIA

Also Read

%d bloggers like this: