अयोध्यालाइव

Thursday, December 1, 2022

खेत तालाब योजना:खेत तालाब योजना से भूगर्भ जल में बढ़ोत्तरी, सिंचाई के लिए उपयोगी सिद्ध होगी

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
‘‘खेत तालाब योजना‘‘ 

Listen

खेत तालाब योजना से भूगर्भ जल में बढ़ोत्तरी, सिंचाई के लिए उपयोगी सिद्ध हुई
18 मई से होगी खेत तालाब योजना उत्तर प्रदेश ऑनलाइन पंजीकरण की प्रक्रिया प्रारंभ

खेत तालाब योजना  के दस्तावेज

बस्ती : उत्तर प्रदेश सरकार प्रदेश के किसानों को सिंचाई, बुआई, बीज, खाद, कृषि उपकरण सहित लाभ पहंुचाते हुए हर स्तर पर सुविधा दे रही है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने किसानों को परम्परागत ढंग से सिंचाई के लिए ’’खेत तालाब योजना’’ लागू की है। यह योजना प्रदेश के सभी किसानों के लिए है। योजना के अंतर्गत प्रत्येक किसान जो अपने खेतों के आसपास, बीच में तालाब बनायेगें, उन्हें राज्य सरकार की ओर से सब्सिडी प्रदान की जा रही है।

प्रदेश सरकार की इस योजना को शुरू करने का उद्देश्य यह है कि बरसात का पानी जमा करा कर किसानों की खेती में सिंचाई की मात्रा को बढ़ावा देना है इससे किसानों को दोनों तरफ से लाभ प्राप्त होगा। किसान खेत में फसल की सिंचाई के साथ-साथ मत्स्य पालन भी कर सकते हैं। सरकार की खेत तालाब योजना से भूगर्भ जल में बढ़ोत्तरी भी हो रही है और किसानों की फसल में अच्छा उत्पादन भी हो रहा है।

खेत तालाब योजना किसानों के लिए शुरू की गयी है

उत्तर प्रदेश खेत तालाब योजना किसानों के लिए शुरू की गयी है। इस योजना के माध्यम से प्रत्येक किसान जो अपने खेत के सामने या बीच में, जहां बारिश का पानी ज्यादा इकट्ठा होता है अगर वहां किसान तालाब बनाते हैं, तो किसानो को इस योजना के तहत 50 प्रतिशत तक की सब्सिडी प्रदान की जाती है। इस तालाब को बनाने का मुख्य उद्देश्य यह भी है कि बरसात के मौसम में दो चार दिन तक लगातार बारिश के समय जो बरसाती पानी फसलों को बर्बाद कर देता है, उसे तालाब बना कर इकट्ठा कराया जाए, इससे किसानों की फसल सुरक्षित रहेगी और इकट्ठे पानी से किसानों को सिंचाई के लिए ट्यूबवेल का इस्तेमाल ज्यादा नहीं करना पड़ेगा।

साथ ही जिन किसानों के पास सिंचाई के लिए मोटर सुविधाएं जो बिजली से चलती हो और वहां लाइट की सुविधा न पहुंच पा रही हो उस स्थिति में किसानों की खेती में सिंचाई के लिए पानी की सुविधा देने के लिए तालाब बनवाये जायें। ताकि किसानों को खेती में सिंचाई करने में किसी भी प्रकार की समस्या न उठानी पड़े। तालाबों में किसान बरसात एवं अन्य स्थानों से आने वाले पानी को एकत्र कर सकेंगे और अपनी फसलों को ठीक से सिंचित कर सकेंगे।

खेत तालाब योजनान्तर्गत खेत में प्लास्टिक लाइनिंग पौंड-साइज 20ग्20ग्3 मीटर (फैब्रिक एरिया 635 वर्ग मीटर), प्लास्टिक लाइनिंग पौंड-साइज 32ग्32ग्3 मीटर (फैब्रिक एरिया 1426 वर्ग मीटर), प्लास्टिक लाइनिंग पौंड-साइज 45ग्45ग्3 मीटर (फैब्रिक एरिया 2642 वर्ग मीटर) आकार के तालाब खुदवाने का प्राविधान है। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजनान्तर्गत उत्तर प्रदेश खेत तालाब योजना में अनुदान राशि राज्य के सभी श्रेणी के कृषकों को लागत का 50 प्रतिशत अथवा अधिकतम राशि रूपये 52,500 कच्चे फार्म तालाब पर और 75,000 रूपये की राशि-प्लास्टिक लाइनिंग कार्य के साथ 300 उपबतवद ठप्ै के लिए देय है।

बुंदेलखण्ड को सूखे से बचाने में खेत-तालाब योजना से बहुत मदद मिली है। राज्य के अधिक से अधिक किसानों को इस योजना का लाभ प्रदान कराया गया है। राज्य में पिछले आंकड़ों के हिसाब से बंुदेलखण्ड के चित्रकूट, बॉदा, हमीरपुर, जालौन, झांसी, महोबा, ललितपुर में हजारों किसानों के खेत में तालाब बनाए गए हैं। जिसमें किसान वर्षा का पानी एकत्रित कर अपनी फसल की सिंचाई करते हुए उत्पादन में बढोत्तरी कर रहे हैं।

इच्छुक लाभार्थी किसान राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई, इस योजना में लाभ लेना चाहते हैं, तो उन्हें योजना की ऑफिशियल वेबसाइट नचंहतपचंतकंतेीपण्हवअण्पद पर जाकर आवेदन करना होता है। खेत तालाब योजना के शुरू होने से वे सभी किसान जो पहले पानी की समस्या को लेकर और तालाब बनाने के लिए असमर्थ थे अब वह आसानी से योजना का लाभ उठा कर अपने खेतों में तालाब का निर्माण कर सकते हैं।

18 मई से होगी खेत तालाब योजना उत्तर प्रदेश ऑनलाइन पंजीकरण की प्रक्रिया प्रारंभ

यदि आप भी उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही Khet Talab Yojana 2022 का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं तो इसके लिए सरकार ने ऑनलाइन पंजीकरण की सुविधा प्रारंभ करती है। खेत तालाब योजना के तहत पंजीकरण की प्रक्रिया 18 मई से शुरू कर दी गई है इसलिए जो भी किसान इस योजना का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं वह पारदर्शी किसान सेवा योजना के तहत upagripardarshi.gov.in की अधिकारिक वेबसाइट पर जाकर किसान खेत तालाब योजना के तहत अपना ऑनलाइन पंजीकरण करवा सकते हैं.

खेत तालाब योजना ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया

‘‘खेत तालाब योजना‘‘ 
‘‘खेत तालाब योजना‘‘

सबसे पहले आपको कृषि विभाग उत्तर प्रदेश की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा। ‘‘खेत तालाब योजना‘‘ 

वेबसाइट के होम पेज पर आपको ‘‘खेत तालाब योजना‘‘ के विकल्प पर क्लिक कर देना है। इसके बाद आपके एक नया पेज खुल जाएगा।

इस पेज पर आप योजना से संबंधित सभी जानकारी देख सकते हैं। आप इसकी अधिकारिक वेबसाइट के अनुसार खेत तालाब योजना उत्तर प्रदेश के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

यदि आपको योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन का लाभ प्राप्त नहीं हो रहा है तो आप अपने नजदीकी ग्राम पंचायत में जाकर योजना से संबंधित आवेदन की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

ग्राम पंचायत से आवश्यक जानकारी उपलब्ध ना होने की स्थिति में आप अपने तहसील या ब्लॉक में जाकर भी इस योजना से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

‘‘खेत तालाब योजना‘‘  से भूगर्भ जल में बढ़ोत्तरी

उत्तर प्रदेश खेत तालाब योजना भूगर्भ जल के स्तर में वृद्धि लाने में भी सहायक हो रहा है। उत्तर प्रदेश खेत तालाब योजना का लाभ लेने के लिए किसान को उत्तर प्रदेश राज्य का निवासी होना अनिवार्य है। इस योजना का लाभ प्रदेश के अनुसूचित जाति, जनजाति, अल्पसंख्यक तथा लघु सीमान्त किसानों को भी मिलेगा। प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की गयी इस योजना का लाभ परिवार में केवल एक ही किसान उठा सकता है।

योजना में आवेदन वही किसान करेंगे जिनकी उम्र 18 वर्ष से अधिक हो। इस योजना के अतंर्गत किसानों के पास बैंक खाता होना आवश्यक है और बैंक अकाउंट आधार कार्ड से लिंक भी होना चाहिए।

वर्तमान सरकार ने बुन्देलखण्ड क्षेत्र सहित प्रदेश के अन्य जनपदों में सिंचन क्षमता बढ़ाने के लिए खेत तालाब योजना का विस्तार करते हुए वर्ष 2017-18 में बुन्देलखण्ड क्षेत्र में 2549 खेत तालाबों एवं प्रदेश के अन्य अतिदोहित एवं दोहित जिलों में 835 खेत तालाबों का निर्माण कार्य पूर्ण कराया है। इस प्रकार वर्ष 2017-18 में प्रदेश में कुल 3384 खेत तालाबों का निर्माण कराया गया।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के अन्तर्गत वर्ष 2018-19 में कुल 5000 खेत तालाबों का निर्माण कराया गया। योजनान्तर्गत निर्मित खेत-तालाबों पर स्पिं्रकलर सिंचाई प्रणाली की स्थापना हेतु लघु एवं सीमांत कृषकों को 90 प्रतिशत तथा अन्य कृषकों को 80 प्रतिशत अनुदान अनुमन्य है। वर्ष 2019-20 में योजनान्तर्गत 5261 तालाबों का निर्माण कराया गया।

वर्ष 2020-21 में 4427 तालाबों का निर्माण कराया गया। वर्ष 2021-22 में 10000 खेत तालाब निर्माण लक्ष्य के सापेक्ष माह मार्च, 2022 तक 5860 खेत-तालाबों का निर्माण किया गया। वर्तमान सरकार के कार्यकाल में मार्च, 2022 तक 27316 से अधिक खेत तालाबों का निर्माण कराया गया है, जिससे किसान अपनी हजारों एकड़ फसल की सिंचाई मत्स्य पालन करते हुए, खाद्यान्न उत्पादन कर आर्थिक स्थिति मजबूत कर रहे है।

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी का ध्येय है कि प्रदेश के किसान ’खेत तालाब योजना’ का लाभ उठाते हुए अपना विकास करें। प्रदेश सरकार ने आगामी वर्षों में एक लाख खेत तालाब बनवाने का लक्ष्य रखा है, जिसको साकार करने के लिए कृषि विभाग के अधिकारी लगातार किसानों से सम्पर्क करते हुए तालाब बनवा रहे हैं।

खेत तालाब योजना के लाभ

’खेत तालाब योजना के तहत मिलने वाले मुख्य लाभ कुछ इस प्रकार है।

इस योजना के तहत किसानों को जल संरक्षण एवं इसके समुचित प्रयोग के लिए प्रेरित किया जाएगा।
खेत तालाब योजना उत्तर प्रदेश वर्षा जल को संग्रहित करके इसे सिंचाई हेतु प्रयोग करने काला प्रदान करेगी।
इस योजना के तहत जल को संचित करके उसका सुरक्षित उपयोग किया जा सकेगा।बरसात के मौसम में देश भर में काफी हद तक बारिश होती है और यह बारिश का पानी नालों के जरिए नदियों में बह जाता है। इस जल का किसानों को कोई भी खास फायदा नहीं होता। परंतु यदि किसान अपने खेतों को तलाब में परिवर्तित करते हैं तो ऐसे भी बारिश का पानी एकत्रित कर उसका लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

खेत तालाब योजना उत्तर प्रदेश 2022 अनुदान राशि

सबसे पहले हम आपको बताते हैं कि किसान को करासक फॉर्म भरने पर कितने रुपये, कच्चे खेत के पौधे पर लागत का 50 प्रतिशत या अधिकतम राशि 52,500/- रुपये और 75,000/- प्लास्टिक लाइनिंग की राशि दी जाती है।  अनुदान कार्य के साथ देय होगा (बीआईएस मानदंड के अनुसार 300 माइक्रोन) जो भी कम हो।  ऐसे में 3300 और नए फार्म-तालाब बनाने का काम चल रहा है। उन्होंने कहा कि ’खेत तालाब योजना 2022 के तहत बुंदेलखंड के चित्रकूट, हमीरपुर, जालौन, झांसी, ललितपुर और महोबा में खेत-तालाब बनाए गए हैं. इस योजना में बहुत ही पारदर्शी तरीके से किसानों का चयन किया गया है। जो किसान स्वेच्छा से अपने खेत में तालाब बनाना चाहते थे, उन्हें तालाब के तीन मॉडल दिखाए गए। इससे उन्होंने जो मॉडल चुना वह उनके खेत के एक हिस्से में खेत तालाब योजना 2021 के तहत बनवाया गया था।

खेत तालाब योजना का लक्ष्य एवं कार्य क्षेत्र

  • पहला चरण-  उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बुन्देलखण्ड के 7 जनपदों के समस्त विकासखण्ड में रू० 12.20 करोड़ के व्यय पर 2000 तालाब का निर्माण किया जाएगा।

  • द्वितीय चरण- बुंदेलखंड क्षेत्र सहित प्रदेश के 44 जिलों के अतिशोषित एवं गंभीर रूप से चिन्हित विकास खण्डों के 167 में 27.88 करोड़ रुपये की लागत से 3384 तालाबों का निर्माण.

खेत तालाब योजना  के दस्तावेज

  • आवेदक किसान का आधार कार्ड

  • किसान का मूल निवास प्रमाण पत्र

  • आवेदक किसान का जाती प्रमाण पत्र

  • किसान के बैंक खाते का विवरण

  • किसान की पासपोर्ट साईज एक फोटो

  • आवेदक किसान का मोबाइल नंबर

  • किसान का पहचान पत्र

  • किसान की जमीन के कागजात

https://www.ayodhyalive.com/10691-2/

अयोध्यालाइव समाचार youtube चैनल को subscribe करें और लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहे।
https://www.youtube.com/channel/UCs8PPJM3SmMZdIMQ6pg4e1Q?sub_confirmation=1

https://hostinger.in?REFERRALCODE=1AYODHYALIV51

ADVERTISEMENT

Related News

Leave a Reply

JOIN TELEGRAM AYODHYALIVE

Currently Playing
Coming Soon
देश का सबसे प्रभावशाली प्रधानमंत्री कौन रहा है?
देश का सबसे प्रभावशाली प्रधानमंत्री कौन रहा है?
देश का सबसे प्रभावशाली प्रधानमंत्री कौन रहा है?

Our Visitor

131162
Users Today : 20
Total Users : 131162
Views Today : 31
Total views : 170014
December 2022
M T W T F S S
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293031  
Currently Playing

OUR SOCIAL MEDIA

Also Read

%d bloggers like this: