AYODHYAलाइव

Wednesday, February 1, 2023

नामलिंगानुशासन : अमरकोष की आधुनिक हिंदी व्याख्या डॉ अजय मणि का युगधर्म योगदान

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
नामलिंगानुशासन : अमरकोष की आधुनिक हिंदी व्याख्या डॉ अजय मणि का युगधर्म योगदान

Listen

Advertisements

नामलिंगानुशासन : अमरकोष की आधुनिक हिंदी व्याख्या डॉ अजय मणि का युगधर्म योगदान

श्रुति, स्मृति, उपनिषद और संस्कृत के शब्दों को समझने को सरल बनाने का सफल प्रयास

आधुनिक परिवेश में नई शब्द व्याख्या और संपादन कर डॉ अजय मणि ने रचा इतिहास

यह कितना सुखद होगा जब श्रुति, स्मृति, उपनिषद और पुराणों में प्रयुक्त संस्कृत शब्दों की सरल हिंदी व्याख्या सामने आ जाय। यह निश्चय ही संस्कृत भाषा से भी ज्यादा हिंदी के लिए एक उपहार जैसा है। आश्चर्य की बात नहीं, क्योकि ऐसा ग्रंथ तैयार हो गया है । यह महती कार्य किया है डॉ अजय कुमार मणि त्रिपाठी ने। इसका प्रकाशन भारतीय विद्या संस्थान , वाराणसी से किया जा रहा है। यह युगानुकूल, युगधर्म स्वरूप भाषा का ऐसा कार्य है जिसकी आवश्यकता पिछली शताब्दी से ही निरंतर महसूस की जा रही थी। मूल संस्कृत ग्रंथों के अध्ययन को अत्यंत सरल बनाने के लिए किए गए इस कार्य को केवल शब्दों में व्यक्त करना कठिन है।

यहां यह समझ लेना बहुत जरूरी है कि यह नामलिंगानुशासन अथवा अमरकोष है क्या, और क्यों यह इतना महत्वपूर्ण है। इसके लिए 22 सौ वर्ष पीछे जाना पड़ेगा और तत्कालीन भारत की शिक्षा पद्धति को समझना होगा।

अमरकोष प्रथम शती विक्रमी के महान् विद्वान् अमर सिंह का संस्कृत के कोशों में प्रसिद्ध और लोकप्रिय कोषग्रंथ है। अन्य संस्कृत कोषों की भाँति अमरकोष भी छंदोबद्ध रचना है। इसका कारण यह है कि भारत के प्राचीन पंडित ‘पुस्तकस्था’ विद्या को कम महत्व देते थे, उनके लिए कोष का उचित उपयोग वही विद्वान्‌ कर पाता है जिसे वह कंठस्थ हो। श्लोक शीघ्र कंठस्थ हो जाते हैं। इसलिए संस्कृत के सभी मध्यकालीन कोष पद्य में हैं।अमरकोष में उपनिषद के विषय में कहा गया है-

उपनिषद शब्द धर्म के गूढ़ रहस्यों को जानने के लिए प्रयुक्त होता है। इतालीय पंडित पावोलीनी ने सत्तर वर्ष पहले यह सिद्ध किया था कि संस्कृत के ये कोष कवियों के लिए महत्वपूर्ण तथा काम में कम आनेवाले शब्दों के संग्रह हैं। अमरकोष ऐसा ही एक कोष है।अमरकोष का वास्तविक नाम अमर सिंह के अनुसार नामलिंगानुशासन है, नाम का अर्थ यहाँ संज्ञा शब्द है। अमरकोष में संज्ञा और उसके लिंगभेद का अनुशासन या शिक्षा है। अव्यय भी दिए गए हैं, किंतु धातु नहीं हैं। धातुओं के कोष भिन्न होते थे।

हलायुध ने अपना कोष लिखने का प्रयोजन कविकंठविभूषणार्थम्‌ बताया है। धनंजय ने अपने कोष के विषय में लिखा है, “‘मैं इसे कवियों के लाभ के लिए लिख रहा हूं'”, (कवीनां हितकाम्यया), अमर सिंह इस विषय पर मौन हैं, किंतु उनका उद्देश्य भी यही रहा होगा। अमरकोष में साधारण संस्कृत शब्दों के साथ-साथ असाधारण नामों की भरमार है। आरंभ ही देखिए- देवताओं के नामों में ‘लेखा’ शब्द का प्रयोग अमरसिंह ने कहाँ देखा, पता नहीं। ऐसे भारी भरकम और नाममात्र के लिए प्रयोग में आए शब्द इस कोश में संगृहीत हैं, जैसे-
देवद्र्यंग या विश्वद्र्यंग।

कठिन, दुर्लभ और विचित्र शब्द ढूँढ़-ढूँढ़कर रखना कोषकारों का एक कर्तव्य माना जाता था। नमस्या (नमाज या प्रार्थना) ऋग्वेद का शब्द है। द्विवचन में नासत्या, ऐसा ही शब्द है। मध्यकाल के इन कोषों में, उस समय प्राकृत शब्द भी संस्कृत समझकर रख दिए गए हैं। मध्यकाल के इन कोषों में, उस समय प्राकृत शब्दों के अत्यधिक प्रयोग के कारण, कई प्राकृत शब्द संस्कृत माने गए हैं; जैसे-छुरिक, ढक्का, गर्गरी, डुलि, आदि।

बौद्ध-विकृत-संस्कृत का प्रभाव भी स्पष्ट है जैसे- बुद्ध का एक नामपर्याय अर्कबंधु। बौद्ध-विकृत-संस्कृत में बताया गया है कि अर्कबंधु नाम भी कोष में दे दिया। बुद्ध के ‘सुगत’ आदि अन्य नामपर्याय ऐसे ही हैं। इस कोश में प्राय: दस हजार नाम हैं, जहाँ मेदिनी में केवल साढ़े चार हजार और हलायुध में आठ हजार हैं।

इसी कारण पंडितों ने इसका आदर किया और इसकी लोकप्रियता बढ़ती गई।
अब डॉ अजय कुमार मणि त्रिपाठी की व्यख्या और उनके द्वारा संपादित अमरकोष प्रकाश में आ रहा है। यह निश्चित रूप से इस सदी में भाषा और शब्द की दुनिया की यह अबतक की सबसे बड़ी घटना है। व्यख्यासुधा, रामाश्रमी, राजराजेश्वरी विभूषित नामलिंगानुशासन अमरकोष का यह प्रकाशन प्राचीन भारतीय साहित्य को पढ़ने, समझने और उसकी व्याख्या प्रस्तुत करने में एक सामान्य हिंदी भाषी व्यक्ति के लिए भी सबकुछ सरल बना देगा। संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय, वाराणसी, श्री काशी विश्वनाथ न्यास परिषद के विद्वानों के साथ ही काशी एवं भारत के अन्य अनेक विद्वानों के सहयोग और दिशानिर्देशन में तैयार किये गए इस ग्रंथ के कुल 892 पृष्ठ भारत की भाषिक क्षमता और संप्रेषणीय मनोभाव को विश्वपटल पर प्रस्तुत करने के लिए तैयार हैं।

ADVERTISEMENT

इस ग्रंथ के पुरोवाक में संपादक और व्याख्याकार ने स्पष्ट भी कर दिया है कि साहित्य में कोषों का प्राकट्य उतना ही प्राचीन है जितने प्राचीन उनसे संबंधित वांग्मय हैं। विश्व के सभी वांगमयों में सर्वाधिक प्राचीन संस्कृत है जिसका आरंभिक स्वरूप वेद अर्थात श्रुति स्वरूप उद्घाटित होता है। ऐसे वांगमयों को सभी लोग जिस संसाधन से समझ सकें और यह सरसुगम बने, इसके लिए इनकी टीकाओं और भाष्यों की रचना समय समय पर होती रही है। वांगमयों का सर्वजन वेद्य होना सुगमतापूर्वक उनके अर्थावबोध पर निर्भर करता है। इसके लिए ऐसे शास्त्र की आवश्यकता होती है जो कि उनमें गुम्फित शब्दों के अर्थ को सरलता से सुलभ करा सके। डॉ अजय कुमार मणि त्रिपाठी का यह ग्रंथ यही कर रहा है।

ALSO READ

चार साल में होगा ग्रेजुएशन,UGC ने जारी किया करीकुलम

AYODHYALIVE BHU : Funds will not be an obstacle for ensuring high quality teaching and research: Prof. Sudhir Jain 

काशी तमिल संगमम् में जारी है सांस्कृतिक रंगों की बहार, कथक, पेरियामलम, कोलट्टम एवं कुमयनुअट्टम की प्रस्तुतियों से सम्मोहित हुए दर्शक

अयोध्यालाइव : अयोध्या की सेवा में है डबल इंजन की सरकार : सीएम

अयोध्यालाइव : राम की संस्कृति जहां भी गई, मानवता के कल्याण का मार्ग प्रशस्त करती रहीः सीएम योगी

अयोध्यालाइव : रामनगरी को विश्व स्तरीय पर्यटन नगरी बनाने के लिए समय से कार्य करें अफसर: सीएम योगी

अयोध्यालाइव : बुलेट ट्रेन की गति से विकास कराती है ट्रिपल इंजन की सरकार : सीएम योगी

अयोध्यालाइव : कुलपति ने किया लैब्स का निरीक्षण

अयोध्यालाइव : सीएम योगी ने किया रामलला और हनुमानगढ़ी का दर्शन पूजन

अयोध्यालाइव : मुख्यमंत्री योगी ने किया अयोध्या विजन 2047 के कार्यो की समीक्षा

अयोध्यालाइव : दवाओं के साथ लें सात बार आहार, मिलेगी टीबी से मुक्ति  

प्रभु राम के आशीर्वाद से हो रहे त्रेता की अयोध्या के दर्शनः पीएम मोदी

: https://www.ayodhyalive.com/anganwadi-center…ment-of-children/ ‎

15 लाख 76 हजार दीपों का प्रज्जवलन कर बना वल्र्ड रिकार्ड

आयुर्वेद कैसे काम करता है – क्या है तीन दोष ?

दुनिया के इन देशों में भी भारत की तरह मनाई जाती है दीपावली

सम्पूर्ण भोजन के साथ अपने बच्चे का पूर्ण विकास सुनिश्चित करें : आचार्य डॉक्टर आरपी पांडे 

वजन कम करने में कारगर हे ये आयुर्वेदिक औषधियाँ :आचार्य डॉक्टर आरपी पांडे

सोने से पहले पैरों की मालिश करेंगे तो होंगें ये लाभ: आचार्य डॉक्टर आरपी पांडे

कुलपति अवध विश्वविद्यालय के कथित आदेश के खिलाफ मुखर हुआ एडेड डिग्री कालेज स्ववित्तपोषित शिक्षक संघ

अयोध्या में श्री राम मंदिर तक जाने वाली सड़क चौड़ीकरण के लिए मकानों और दुकानों का ध्वस्तीकरण शुरू

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने राम जन्मभूमि परिसर के विकास की योजनाओं में किया बड़ा बदलाव

पत्रकार को धमकी देना पुलिस पुत्र को पड़ा महंगा

बीएचयू : शिक्षा के अंतरराष्ट्रीयकरण के लिए संस्थानों को आकांक्षी होने के साथ साथ स्वयं को करना होगा तैयार

राष्ट्रीय शिक्षा नीति का उद्देश्य शिक्षा को 21वीं सदी के आधुनिक विचारों से जोड़ना : PM मोदी

प्रवेश सम्बधित समस्त जानकारी विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है।

घर की छत पर सोलर पैनल लगाने के लिए मिल रही सब्सिडी, बिजली बिल का झंझट खत्म

बीएचयू : कालाजार को खत्म करने के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में महत्वपूर्ण खोज

नेपाल के लोगों का मातृत्व डीएनए भारत और तिब्बत के साथ सम्बंधितः सीसीएमबी व बीएचयू का संयुक्त शोध

Advertisements

Related News

Leave a Reply

JOIN TELEGRAM AYODHYALIVE

Currently Playing
Coming Soon
देश का सबसे प्रभावशाली प्रधानमंत्री कौन रहा है?
देश का सबसे प्रभावशाली प्रधानमंत्री कौन रहा है?
देश का सबसे प्रभावशाली प्रधानमंत्री कौन रहा है?
February 2023
M T W T F S S
 12345
6789101112
13141516171819
20212223242526
2728  
Currently Playing
Advertisements

OUR SOCIAL MEDIA

Also Read

%d bloggers like this: