Monday, July 15, 2024
spot_img

जनशिकायतों के निस्तारण में लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ जिलाधिकारी ने की कार्रवाई

– डीएम नेहा शर्मा ने की जनशिकायतों के निस्तारण में लापरवाही पर बड़ी कार्यवाही

– तहसीलदार सदर को नोटिस, नायब तहसीलदार व क्षेत्रीय राजस्व निरीक्षक समेत 04 को विशेष प्रतिकूल प्रविष्ट

– अक्टूबर 2023 में सार्वजनिक उपयोग की भूमि पर अतिक्रमण के संबंध में की गई थी शिकायत

– आवेदक द्वारा कई बार अनुरोध के बाद भी नहीं हुआ शिकायत का निस्तारण

– तहसीलदार को 16 जनवरी तक खुद मौके पर जाकर निस्तारण करने के दिए गए हैं आदेश

गोंडा। तहसीलदार सदर सत्यपाल सिंह समेत पांच अन्य अधिकारियों को जनशिकायतों के निस्तारण में लापरवाही और शिथिलता बरतना भारी पड़ गया। जिलाधिकारी नेहा शर्मा के समक्ष जनता दर्शन में प्रकरण सामने आने पर इन सभी के खिलाफ कार्यवाही के आदेश जारी किए गए हैं। तहसीलदार सदर से 3 दिन में स्पष्टीकरण मांगा गया है। साथ ही, 16 जनवरी तक प्रकरण का निस्तारण सुनिश्चित कर आख्या प्रस्तुत करने के लिए आदेश दिए गए हैं। अन्य के खिलाफ मध्यावधि विशेष प्रतिकूल प्रविष्टि जारी की गई है। जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने स्पष्ट कहा है कि जनशिकायतों का त्वरित निस्तारण प्रशासन की प्राथमिकता है। इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही और शिथिलता स्वीकार्य नहीं है।

JOIN



– जनता दर्शन में सामने आई थी शिकायत

तहसील गोण्डा के खिरौरा मोहन (चिलबिला खत्तीपुर) निवासी पं. राम किशुन मिश्र ने बीते 18 अक्टूबर को जनता दर्शन में उपस्थित होकर जिलाधिकारी नेहा शर्मा को सार्वजनिक उपयोग की भूमि पर अतिक्रमण की शिकायत दर्ज कराई थी। उन्होंने बताया कि इस प्रकरण में कई बार प्रार्थना पत्र देने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं की गई। जिलाधिकारी ने एसडीएम और सीओ सदर को इस प्रकरण कार्यवाही सुनिश्चित करने के लिए निर्देश किया।

– समिति बनाने के बाद नहीं की कार्यवाही

इस पूरे प्रकरण में तहसीलदार सदर द्वारा 25 नवम्बर 2023 को नायब तहसीलदार नेहा राजवंशी की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय टीम का गठन कर कार्यवाही सुनिश्चित कर रिपोर्ट देने को कहा। 10 जनवरी को शिकायतकर्ता पं. राम किशुन मिश्र ने जिलाधिकारी के जनता दर्शन कार्यक्रम में उपस्थित होकर कोई कार्यवाही न होने की जानकारी दी। शिकायतकर्ता ने बताया कि उसमें कई बार इस प्रकरण के संबंध में उपजिलाधिकारी एवं तहसीलदार से सम्पर्क किया। बार-बार चक्कर काटने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं की गई। जनशिकायत के निस्तारण में लापरवाही और शिथिलता के मद्देनजर तहसीलदार सदर सत्यपाल सिंह, नायब तहसीलदार विरवा नेहा राजवंशी, क्षेत्रीय राजस्व निरीक्षक रामानुज, लेखपाल अक्षय कुमार पाण्डेय और क्षेत्रीय लेखपाल नृपेन्द्र त्रिपाठी के खिलाफ कार्यवाही के आदेश जारी कर दिए गए हैं।



– तहसीलदार को यह आदेश दिए गए

जिलाधिकारी ने तहसीलदार सदर सत्यपाल सिंह को स्वयं पुलिस बल के साथ मौके पर जाकर चकमार्ग को अतिक्रमणमुक्त कराने और 16 जनवरी तक आख्या प्रस्तुत करने के आदेश दिए गए हैं। तहसीलदार सदर से समस्या का निस्तारण सुनिश्चित न कर पाने के चलते तीन दिन में स्पष्टीकरण भी मांगा गया है। वहीं नायब तहसीलदार विरवा नेहा राजवंशी, क्षेत्रीय राजस्व निरीक्षक रामानुज, लेखपाल अक्षय कुमार पाण्डेय और क्षेत्रीय लेखपाल नृपेन्द्र त्रिपाठी की परिनिन्दा की गई है।

JOIN

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

For You
- FOLLOW OUR GOOGLE NEWS FEDS -spot_img
डा राम मनोहर लोहिया अवध विश्व विश्वविद्यालय अयोध्या , परीक्षा समय सारणी
spot_img

क्या राहुल गांधी की संसद सदस्यता रद्द होने से कांग्रेस को फायदा हो सकता है?

View Results

Loading ... Loading ...
Latest news
प्रभु श्रीरामलला सरकार के शुभ श्रृंगार के अलौकिक दर्शन का लाभ उठाएं राम कथा सुखदाई साधों, राम कथा सुखदाई……. दीपोत्सव 2022 श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने फोटो के साथ बताई राम मंदिर निर्माण की स्थिति