Sunday, April 21, 2024
spot_img

वैदिक वाङ्मय में लेखन परम्परा, वैदिक दृष्टि में काल गणना

70 / 100

वैदिक वाङ्मय में लेखन परम्परा, वैदिक दृष्टि में काल गणना

बीएचयू : पाणिनी की व्याकरण के बहुत पहले ही भारत में लेखन कला का पर्याप्त विकास हो चुका था तथा अनेकों प्रकार के लौकिक एवं वैदिक ग्रंथ लिखे जा चुके थे, ग्रंथों के लिये पाणिनी ने अपनी अष्टाध्यायी में खास तौर पर चार सूत्र निर्मित किये। श्रीलंका के अनुराधापुर से ५वीं – ६वीं शताब्दी ईसा पूर्व से ब्राह्मी लिपि के कार्बन डेटेड पुरातात्विक साक्ष्य मिले हैं, भारत से श्रीलंका तक स्क्रिप्ट के विकास एवं विस्तार में कुछ शताब्दियों का समय लगना स्वाभाविक है, अतः प्रथम दृष्टि में भारत के संदर्भ में ब्राह्मी लिपि का विकास एक हजार ईसा पूर्व की सीमारेखा को स्पर्श करता हुआ दिखता है।

गणना

JOIN

वैदिक विज्ञान केंद्र, बीएचयू में आयोजित नेशनल सेमिनार में विशिष्ट वक्तव्य देते हुये वैदिक विषयों के विशेषज्ञ डॉ0 ललित मिश्र ने यह विचार व्यक्त किये। विषय पर आगे प्रमाण प्रस्तुत करते हुये ललित मिश्र ने कहा कि लेखन के साक्ष्य हमें ऋग्वेद एवं यजुर्वेद से ही मिलने शुरू हो जाते है, जिस पर पूर्ववर्ती भारतीय विद्वानों ने भी कार्य किया किंतु अंग्रेजों के शासन में उनके कार्यों को पर्याप्त महत्व नहीं मिल सका ।

विषय की स्थापना करते हुए वैदिक विज्ञान केन्द्र के समन्वयक प्रो. उपेन्द्र कुमार त्रिपाठी ने कहा कि प्राचीनतम वैदिक साहित्य मूलत: श्रुति मूलक है। अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में भारत कला भवन के पूर्व निदेशक, डॉ. डी.पी. शर्मा ने अनेक पुरातात्विक प्रमाणों और पश्चिमी एशिया के साथ व्यापारिक संबंधों के प्रमाणों के आधार पर भारत में लेखन कला की प्रचीनता को प्रमाणित करते हुए कहा कि सैन्धव सभ्यता और वैदिक सभ्यता के बीच कोई भेद नहीं है विशिष्ट अतिथि, जंतु विज्ञान विभाग, विज्ञान संस्थान, का.हि.वि.वि. के प्रो. ज्ञानेन्द्र चौबे ने कहा कि सैन्धव सभ्यता के निवासियों का DNA ही आज की भारतीयों में मापा गया है।

उनमें किसी विदेशी जन के DNAसे कोई समानता नहीं मिलती है। इस राष्ट्रीय संगोष्ठी के आयोजन सचिव डॉ. प्रभाकर उपाध्याय ने सत्र संचालन किया तथा धन्यवाद ज्ञापन डॉ. नारायण प्रसाद भट्टराई ने किया। कार्यक्रम का आरम्भ वैदिक मंगलाचरण एवं सुश्री नेहा सिंह के कुलगीत की प्रस्तुति से हुआ।

ALSO READ

कुलपति अवध विश्वविद्यालय के कथित आदेश के खिलाफ मुखर हुआ एडेड डिग्री कालेज स्ववित्तपोषित शिक्षक संघ

अयोध्या में श्री राम मंदिर तक जाने वाली सड़क चौड़ीकरण के लिए मकानों और दुकानों का ध्वस्तीकरण शुरू

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने राम जन्मभूमि परिसर के विकास की योजनाओं में किया बड़ा बदलाव

पत्रकार को धमकी देना पुलिस पुत्र को पड़ा महंगा

बीएचयू : शिक्षा के अंतरराष्ट्रीयकरण के लिए संस्थानों को आकांक्षी होने के साथ साथ स्वयं को करना होगा तैयार

राष्ट्रीय शिक्षा नीति का उद्देश्य शिक्षा को 21वीं सदी के आधुनिक विचारों से जोड़ना : PM मोदी

प्रवेश सम्बधित समस्त जानकारी विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है।

घर की छत पर सोलर पैनल लगाने के लिए मिल रही सब्सिडी, बिजली बिल का झंझट खत्म

बीएचयू : कालाजार को खत्म करने के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में महत्वपूर्ण खोज

JOIN

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

For You
- FOLLOW OUR GOOGLE NEWS FEDS -spot_img
डा राम मनोहर लोहिया अवध विश्व विश्वविद्यालय अयोध्या , परीक्षा समय सारणी
spot_img

क्या राहुल गांधी की संसद सदस्यता रद्द होने से कांग्रेस को फायदा हो सकता है?

View Results

Loading ... Loading ...
Latest news
प्रभु श्रीरामलला सरकार के शुभ श्रृंगार के अलौकिक दर्शन का लाभ उठाएं राम कथा सुखदाई साधों, राम कथा सुखदाई……. दीपोत्सव 2022 श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने फोटो के साथ बताई राम मंदिर निर्माण की स्थिति