Friday, June 21, 2024
spot_img

अयोध्यालाइव : आकाशीय बिजली से बचने के उपाय

68 / 100

आकाशीय बिजली से बचने के उपाय

तीव्र गर्जन एवं वज्रपात के समय बरतें सावधानियां

मानसून में तीव्र गर्जन एवं वज्रपात के दौरान मौसम विभाग ने आमजन से विभिन्न प्रकार की सावधानियां बरतने की अपील की है, जिससे किसी भी प्रकार की जनहानि से बचा जा सके।

तीव्र गर्जन एवं वज्रपात के दौरान यह करें

तीव्र गर्जन एवं वज्रपात के दौरान आकाश में छाए बादलों एवं हवा पर नजर रखें और तीव्र गर्जन सुनाई देने पर सुरक्षित स्थान पर आश्रय लें। ऐसे में भीड़ में खड़े होने से भी बचें। गड़गड़ाहट के अंतिम गर्जन के बाद कम से कम 30 मिनट तक सभी प्रकार की गतिविधियों को स्थगित रखें। साथ ही स्थानीय मीडिया द्वारा जारी सूचना, चेतावनी एवं निर्देशों का पालन करें।

तीव्र गर्जन एवं वज्रपात के दौरान बच्चों, बुजुर्गों, गर्भवती महिलाओं और जानवरों के लिए भी सुरक्षित स्थान सुनिश्चित करें। सभी विद्युतीय उपकरणों को बंद करके रखें और धातु के पाइप में विद्युत, कॉर्डलेस टेलिफोन उपकरणों, उपयोगिता लाइनों, तारों और बहते पानी के संपर्क से बचना चाहिए। इस दौरान पैरों के मध्य सिर को रखकर अपने आप को छोटा बनाकर पंजों के बल बैठना चाहिए। जो पेड़ इमारत की सुरक्षा के लिए खतरनाक हो सकते हैं, उनकी समय-समय पर कटाई व छटाई करें। छत पर विद्युत सुरक्षा प्रणाली स्थापित करें। बरामदे, कांच की खिड़कियों और दरवाजों से दूर रहें। बैटरी-संचालित रेडियो का उपयोग करें और अपने मोबाइल फोन को चार्ज रखें।

यदि आप एक बंद वाहन में हैं तो सड़क किनारे सुरक्षित स्थान पर वाहन रोककर उसके अन्दर ही रहें। तरणताल, झील, जल निकायों, नावों आदि में होने पर पानी से तुरन्त बाहर निकलकर सुरक्षित स्थान पर पहुंचना चाहिए। साथ ही भारत सरकार की दामिनी विद्युत सचेत एप का प्रयोग करें।

अपडेट जानकारियों एवं निर्देशों के लिए स्थानीय रेडियो, टेलीविजन, संचार के साधनों को सुनना जारी रखें। क्षतिग्रस्त एवं गिरे हुए बिजली के खंभे, डूबे हुए बिजली के तारों से दूर रहें और तुरंत नजदीकी विद्युत स्टेशन या पुलिस स्टेशन को सूचित करें। यदि संभव हो, तो घायल व्यक्ति को प्राथमिक चिकित्सा दें तथा जरूरत पड़ने पर उसे नजदीकी अस्पताल ले जाएं। आवश्यकता हो तो सीपीआर (कार्डियो पल्मोनरी रिससिटेशन) दें।

तीव्र गर्जन एवं वज्रपात के दौरान यह नहीं करें

बिजली गर्जन के समय पेड़ों, टिनशेड, धातु की छतों के नीचे व पास में खड़े नहीं होना चाहिए। इस दौरान धात्विक ध्वज के पोस्ट, धातु पाइप या ऊर्ध्वाधर पाइप के करीब न जाएं। कंक्रीट के फर्श पर न लेटे व दीवार के साथ सटकर खडे़ नहीं हो। पहाड़ी, खुले खेतों और समुद्र तटों पर जाने से बचें व इस दौरान मोबाइल का प्रयोग भी नहीं करें।

ALSO READ

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने राम जन्मभूमि परिसर के विकास की योजनाओं में किया बड़ा बदलाव

खबर कवरेज करने गए पत्रकार से अभद्रता करने वाले दबंग को पुलिस ने भेजा जेल https://t.co/Oo0Z42DRTC

JOIN

— अयोध्यालाइव (@ayodhyalive2) July 9, 2022

पत्रकार को धमकी देना पुलिस पुत्र को पड़ा महंगा

Relaxing music for meditation

 

बीएचयू : शिक्षा के अंतरराष्ट्रीयकरण के लिए संस्थानों को आकांक्षी होने के साथ साथ स्वयं को करना होगा तैयार

राष्ट्रीय शिक्षा नीति का उद्देश्य शिक्षा को 21वीं सदी के आधुनिक विचारों से जोड़ना : PM मोदी

प्रवेश सम्बधित समस्त जानकारी विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है।

घर की छत पर सोलर पैनल लगाने के लिए मिल रही सब्सिडी, बिजली बिल का झंझट खत्म

बीएचयू : कालाजार को खत्म करने के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में महत्वपूर्ण खोज

आम की बागवानी को प्रदेश सरकार दे रही है बढ़ावा

ये है दुनिया का सबसे महंगा आम : सुरक्षा में लगे 3 गार्ड और 6 कुत्ते, कीमत जान रह जाएंगे हैरान

भारतीय आमों की विदेशी बाजार में जबरदस्त मांग

Hi Friends, This is my YouTube Channel. Please

Subscribe and Support this Youtube Channel To Grow

JOIN

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

For You
- FOLLOW OUR GOOGLE NEWS FEDS -spot_img
डा राम मनोहर लोहिया अवध विश्व विश्वविद्यालय अयोध्या , परीक्षा समय सारणी
spot_img

क्या राहुल गांधी की संसद सदस्यता रद्द होने से कांग्रेस को फायदा हो सकता है?

View Results

Loading ... Loading ...
Latest news
प्रभु श्रीरामलला सरकार के शुभ श्रृंगार के अलौकिक दर्शन का लाभ उठाएं राम कथा सुखदाई साधों, राम कथा सुखदाई……. दीपोत्सव 2022 श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने फोटो के साथ बताई राम मंदिर निर्माण की स्थिति